पूछ रहे हो क्या अभाव है
तन है केवल प्राण कहाँ है?

डूबा-डूबा सा अन्तर है
यह बिखरी-सी भाव लहर है
अस्फुट मेरे स्वर हैं लेकिन
मेरे जीवन के गान कहाँ हैं?

मेरी अभिलाषाएँ अनगिन
पूरी होंगी? यही है कठिन
जो ख़ुद ही पूरी हो जाएँ
ऐसे ये अरमान कहाँ हैं?

लाख परायों से परिचय है
मेल-मोहब्बत का अभिनय है
जिनके बिन जग सूना-सूना
मन के वे मेहमान कहाँ हैं?

Previous articleधर्म और घुमक्कड़ी
Next articleगौरैया को पत्र
शैलेन्द्र
शंकरदास केसरीलाल शैलेन्द्र (१९२३-१९६६) हिन्दी के एक प्रमुख गीतकार थे। जन्म रावलपिंडी में और देहान्त मुम्बई में हुआ। इन्होंने राज कपूर के साथ बहुत काम किया। शैलेन्द्र हिन्दी फिल्मों के साथ-साथ भोजपुरी फिल्मों के भी एक प्रमुख गीतकार थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here