मेरे शब्द हमेशा अधूरे रहे
कविताओं के मध्य;
सिर्फ़ उन भावों में
जहाँ पौरुष;
स्त्रीत्व के समानुपात में रहना था
लेकिन शब्दों के अनुतान में;
बड़े बेढब तरीक़े से
व्युत्क्रम में चला गया,
कई कोशिशें की मैंने
लेकिन एक स्त्री के
ब्रह्माण्ड में झाँकते हुए
सिर्फ़ मैं अपने शब्दों को सम्भाल पाया;
भाव कहीं पीछे रह गए।
शब्दों का ही विरोधाभास;
हमेशा व्याकरण की एक
किताब को तलाशने पर
विवश करता रहा;
किंतु कुछ परिभाषाएँ
जो किसी;
नियत और प्रायोजित
उद्देश्य के लिए
मेरे आवरण में,
बड़ी बारीकी से गढ़ दी गईं,
उनके ऊपर आश्रित मेरे
ये शब्द हमेशा;
एक अतिरिक्त अर्थ की तलाश में
अपने पर्यायवाची ढूँढते रहेंगे।

यह भी पढ़ें: विशाल अंधारे की कविता ‘स्त्री’

Previous article‘तुम्हारे लिए’ – इंस्टा डायरी (तीसरी किश्त)
Next articleफ़ासले
आदर्श भूषण
आदर्श भूषण दिल्ली यूनिवर्सिटी से गणित से एम. एस. सी. कर रहे हैं। कविताएँ लिखते हैं और हिन्दी भाषा पर उनकी अच्छी पकड़ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here