Tag: Children

Woman playing with kids

तब वे कवि हो जाते हैं

जब बच्चे लम्बी साँस लेकर मारते हैं किलकारियाँ तब गौरैया की तरह उड़ता है माँ का मनजब बच्चों की कोमल हथेलियाँ छूती हैं मिट्टी तब बन जाते हैं...
Vishwanath Tripathi

पार्क में खेलते हुए बच्चे और वे लोग

पार्क में खेलते हुए बच्चे आसमान को हथेलियों पर रखकर, मुठ्ठियों में बंद कर लेते हैं फिर मुठ्ठियाँ खोलते हैं तो भरभराकर सैकड़ों ग़ुब्बारे उड़ पड़ते हैं। हरेक...
Chitra Mudgal

जंगल

रीडर अणिमा जोशी के मोबाइल पर फ़ोन था मांडवी दीदी की बहू तविषा का।आवाज़ उसकी घबरायी हुई-सी थी। कह रही थी, "आंटी, बहुत ज़रूरी काम...
The Selfish Giant story in Hindi by Oscar Wilde

ऑस्कर वाइल्ड की कहानी ‘स्वार्थी दानव’ (The Selfish Giant)

हर शाम स्कूल से आने के बाद बच्चे खेलने के लिए दानव के बाग़ में जाया करते थे। यह एक बहुत बड़ा और सुंदर...
bhisham sahni

बोलता लिहाफ़

गहरी रात गए एक सौदागर, घोड़ा-गाड़ी पर बैठकर एक पड़ाव से दूसरे पड़ाव पर जा रहा था। बला की सरदी पड़ रही थी और...
Rajesh Joshi

रुको बच्‍चो

रुको बच्‍चो, रुको! सड़क पार करने से पहले रुकोतेज रफ़्तार से जाती इन गाड़ियों को गुज़र जाने दोवो जो सर्र से जाती सफ़ेद कार में...
Little Girl laughing, Kid

बच्चा हँस रहा है

1 बच्चा हँस रहा हैठीक इसी वक़्त अमरीका ने किया है समुद्र के गर्भ में परमाणु परीक्षणठीक इसी वक़्त फ़रमा रहे हैं ज़िया उल हक़ मैं ख़ुदा की मर्ज़ी से गद्दी...
Boy, Butterfly

तितली और बाबू

यह कहानी यहाँ सुनें: https://youtu.be/62hcInPNDvUबाबू है एक लड़का। छोटा-सा, प्यारा-सा, सुन्दर-सा, होशियार। लेकिन थोड़ा-सा नटखट। बाबू है तीसरी कक्षा में। इस बार दिल लगाकर पढ़ा।...
Little Girl laughing, Kid

नन्ही बच्चियाँ

'Nanhi Bachchiyaan', a poem by Nirmal Guptदो नन्ही बच्चियाँ घर की चौखट पर बैठीं पत्थर उछालती, खेलती हैं कोई खेल वे कहती हैं इसे- गिट्टक! इसमें न...
Kid in Plane

प्लेन में दौड़ता बच्चा

सीट सीधी करके बैठने और सीट बेल्ट से ख़ुद को बांधे रहने की शर्त से आज़ाद है वह बच्चा, उसे कोई मतलब नहीं कि हवा का दबाव कम होने...
Rahul Boyal

शिशुओं का रोना

'Shishuon Ka Rona', a poem by Rahul Boyalमेरी दृष्टि में सभी शिशुओं के रोने का स्वर तक़रीबन एक जैसा होता है और हँसने की ध्वनि भी लगभग...
Indu Jain

बच्चा

औरत के सिर पर गठरी है कमर पर बच्चा मर्द हाथ में बक्सा लटकाए है।बच्चा रो रहा है लगातार हाथ-पाँव पटक रहा बार-बार।औरत के समझाने मर्द के झुँझलाने के बावजूद वह...

STAY CONNECTED

42,472FansLike
20,941FollowersFollow
29,170FollowersFollow
2,030SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Chen Chien-wu

चेन च्येन वू की कविताएँ

ताइवान के नांताऊ शहर में सन् 1927 में जन्मे कवि चेन च्येन वू मंदारिन, जापानी और कोरियाई भाषाओं में पारंगत कवि हैं। अपने कई...
Ekaterina Grigorova

बुल्गारियाई कवयित्री एकैटरीना ग्रिगरोवा की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा सामान्यता मुझे बाल्टिक समुद्र का भूरा पानी याद है! 16 डिग्री तापमान की अनंत ऊर्जा का भीतरी अनुशासन!बदसूरत-सी एक चीख़ निकालती है पेट्रा और उड़ जाता है आकाश में बत्तखों...
Naomi Shihab Nye

नेओमी शिहैब नाय की कविता ‘जो नहीं बदलता, उसे पहचानने की कोशिश’

नेओमी शिहैब नाय (Naomi Shihab Nye) का जन्म सेंट लुइस, मिसौरी में हुआ था। उनके पिता एक फ़िलिस्तीनी शरणार्थी थे और उनकी माँ जर्मन...
Vinita Agrawal

विनीता अग्रवाल की कविताएँ

विनीता अग्रवाल बहुचर्चित कवियित्री और सम्पादक हैं। उसावा लिटरेरी रिव्यू के सम्पादक मण्डल की सदस्य विनीता अग्रवाल के चार काव्य संग्रह प्रकाशित हो चुके...
Gaurav Bharti

कविताएँ: अगस्त 2022

विस्मृति से पहले मेरी हथेली को कैनवास समझ जब बनाती हो तुम उस पर चिड़िया मुझे लगता है तुमने ख़ुद को उकेरा है अपने अनभ्यस्त हाथों से।चारदीवारी और एक...
Nicoleta Crăete

रोमानियाई कवयित्री निकोलेटा क्रेट की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा औंधा पड़ा सपना प्यार दरअसल फाँसी का पुराना तख़्ता है, जहाँ हम सोते हैं! और जहाँ से हमारी नींद, देखना चाह रही होती है चिड़ियों की ओर!मत...
Daisy Rockwell - Geetanjali Shree

डेज़ी रॉकवेल के इंटरव्यू के अंश

लेखक ने अपनी बात कहने के लिए अपनी भाषा रची है, इसलिए इसका अनुवाद करने के लिए आपको भी अपनी भाषा गढ़नी होगी। —डेज़ी...
Kalam Ka Sipahi - Premchand Jeevani - Amrit Rai

पुस्तक अंश: प्रेमचंद : कलम का सिपाही

भारत के महान साहित्यकार, हिन्दी लेखक और उर्दू उपन्यासकार प्रेमचंद किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। प्रेमचंद ने अपने जीवन काल में कई रचनाएँ...
Priya Sarukkai Chabria

प्रिया सारुकाय छाबड़िया की कविताएँ

प्रिया सारुकाय छाबड़िया एक पुरस्कृत कवयित्री, लेखिका और अनुवादक हैं। इनके चार कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं जिनमें नवीनतम 'सिंग ऑफ़ लाइफ़ रिवीज़निंग...
aadhe adhoore mohan rakesh

आधे-अधूरे : एक सम्पूर्ण नाटक

आधे-अधूरे: एक सम्पूर्ण नाटक समीक्षा: अनूप कुमार मोहन राकेश (1925-1972) ने तीन नाटकों की रचना की है— 'आषाढ़ का एक दिन' (1958), 'लहरों के राजहंस' (1963)...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)