Tag: Children

Woman playing with kids

तब वे कवि हो जाते हैं

जब बच्चे लम्बी साँस लेकर मारते हैं किलकारियाँ तब गौरैया की तरह उड़ता है माँ का मनजब बच्चों की कोमल हथेलियाँ छूती हैं मिट्टी तब बन जाते हैं...
Vishwanath Tripathi

पार्क में खेलते हुए बच्चे और वे लोग

पार्क में खेलते हुए बच्चे आसमान को हथेलियों पर रखकर, मुठ्ठियों में बंद कर लेते हैं फिर मुठ्ठियाँ खोलते हैं तो भरभराकर सैकड़ों ग़ुब्बारे उड़ पड़ते हैं। हरेक...
Chitra Mudgal

जंगल

रीडर अणिमा जोशी के मोबाइल पर फ़ोन था मांडवी दीदी की बहू तविषा का।आवाज़ उसकी घबरायी हुई-सी थी। कह रही थी, "आंटी, बहुत ज़रूरी काम...
The Selfish Giant story in Hindi by Oscar Wilde

ऑस्कर वाइल्ड की कहानी ‘स्वार्थी दानव’ (The Selfish Giant)

हर शाम स्कूल से आने के बाद बच्चे खेलने के लिए दानव के बाग़ में जाया करते थे। यह एक बहुत बड़ा और सुंदर...
bhisham sahni

बोलता लिहाफ़

गहरी रात गए एक सौदागर, घोड़ा-गाड़ी पर बैठकर एक पड़ाव से दूसरे पड़ाव पर जा रहा था। बला की सरदी पड़ रही थी और...
Rajesh Joshi

रुको बच्‍चो

रुको बच्‍चो, रुको! सड़क पार करने से पहले रुकोतेज रफ़्तार से जाती इन गाड़ियों को गुज़र जाने दोवो जो सर्र से जाती सफ़ेद कार में...
Little Girl laughing, Kid

बच्चा हँस रहा है

1 बच्चा हँस रहा हैठीक इसी वक़्त अमरीका ने किया है समुद्र के गर्भ में परमाणु परीक्षणठीक इसी वक़्त फ़रमा रहे हैं ज़िया उल हक़ मैं ख़ुदा की मर्ज़ी से गद्दी...
Boy, Butterfly

तितली और बाबू

यह कहानी यहाँ सुनें: https://youtu.be/62hcInPNDvUबाबू है एक लड़का। छोटा-सा, प्यारा-सा, सुन्दर-सा, होशियार। लेकिन थोड़ा-सा नटखट। बाबू है तीसरी कक्षा में। इस बार दिल लगाकर पढ़ा।...
Little Girl laughing, Kid

नन्ही बच्चियाँ

'Nanhi Bachchiyaan', a poem by Nirmal Guptदो नन्ही बच्चियाँ घर की चौखट पर बैठीं पत्थर उछालती, खेलती हैं कोई खेल वे कहती हैं इसे- गिट्टक! इसमें न...
Kid in Plane

प्लेन में दौड़ता बच्चा

सीट सीधी करके बैठने और सीट बेल्ट से ख़ुद को बांधे रहने की शर्त से आज़ाद है वह बच्चा, उसे कोई मतलब नहीं कि हवा का दबाव कम होने...
Rahul Boyal

शिशुओं का रोना

'Shishuon Ka Rona', a poem by Rahul Boyalमेरी दृष्टि में सभी शिशुओं के रोने का स्वर तक़रीबन एक जैसा होता है और हँसने की ध्वनि भी लगभग...
Indu Jain

बच्चा

औरत के सिर पर गठरी है कमर पर बच्चा मर्द हाथ में बक्सा लटकाए है।बच्चा रो रहा है लगातार हाथ-पाँव पटक रहा बार-बार।औरत के समझाने मर्द के झुँझलाने के बावजूद वह...

STAY CONNECTED

38,332FansLike
20,438FollowersFollow
28,400FollowersFollow
1,720SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Thithurte Lamp Post - Adnan Kafeel Darwesh

‘ठिठुरते लैम्प पोस्ट’ से कविताएँ

अदनान कफ़ील 'दरवेश' का जन्म ग्राम गड़वार, ज़िला बलिया, उत्तर प्रदेश में हुआ। दिल्ली विश्वविद्यालय से कम्प्यूटर साइंस में ग्रेजुएशन करने के बाद उन्होंने...
Vijendra Anil

कहाँ हैं तुम्हारी वे फ़ाइलें

मैं जानता था—तुम फिर यही कहोगे यही कहोगे कि राजस्थान और बिहार में सूखा पड़ा है ब्रह्मपुत्र में बाढ़ आयी है, उड़ीसा तूफ़ान की चपेट में...
Dunya Mikhail

दुन्या मिखाइल की कविता ‘चित्रकार बच्चा’

इराक़ी-अमेरिकी कवयित्री दुन्या मिखाइल (Dunya Mikhail) का जन्म बग़दाद में हुआ था और उन्होंने बग़दाद विश्वविधालय से बी.ए. की डिग्री प्राप्त की। सद्दाम हुसैन...
Muktibodh - T S Eliot

टी. एस. ईलियट के प्रति

पढ़ रहा था कल तुम्हारे काव्य कोऔर मेरे बिस्तरे के पास नीरव टिमटिमाते दीप के नीचे अँधेरे में घिरे भोले अँधेरे में घिरे सारे सुझाव, गहनतम संकेत! जाने...
Jeffrey McDaniel

जेफ़री मैकडैनियल की कविता ‘चुपचाप संसार’

जेफ़री मैकडैनियल (Jeffrey McDaniel) के पाँच कविता संग्रह आ चुके हैं, जिनमें से सबसे ताज़ा है 'चैपल ऑफ़ इनडवर्टेंट जॉय' (यूनिवर्सिटी ऑफ़ पिट्सबर्ग प्रेस,...
Antas Ki Khurchan - Yatish Kumar

‘अन्तस की खुरचन’ से कविताएँ

यतीश कुमार की कविताओं को मैंने पढ़ा। अच्छी रचना से मुझे सार्वजनिकता मिलती है। मैं कुछ और सार्वजनिक हुआ, कुछ और बाहर हुआ, कुछ...
Shivangi

उसके शब्दकोश से मैं ग़ायब हूँ

मेरी भाषा मेरी माँ की तरह ही मुझसे अनजान है वह मेरा नाम नहीं जानती उसके शब्दकोश से मैं ग़ायब हूँ मेरे नाम के अभाव से, परेशान वह बिलकुल माँ...
Savitribai Phule, Jyotiba Phule

सावित्रीबाई फुले का ज्योतिबा फुले को पत्र

Image Credit: Douluri Narayanaप्रिय सत्यरूप जोतीबा जी को सावित्री का प्रणाम,आपको पत्र लिखने की वजह यह है कि मुझे कई दिनों से बुख़ार हो रहा...
Khoyi Cheezon Ka Shok - Savita Singh

‘खोई चीज़ों का शोक’ से कविताएँ

सविता सिंह का नया कविता संग्रह 'खोई चीज़ों का शोक' सघन भावनात्मक आवेश से युक्त कविताओं की एक शृंखला है जो अत्यन्त निजी होते...
Rahul Tomar

कविताएँ: दिसम्बर 2021

आपत्तियाँ ट्रेन के जनरल डिब्बे में चार के लिए तय जगह पर छह बैठ जाते थे तो मुझे कोई आपत्ति नहीं होती थीस्लीपर में रात के समय...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)