Tag: Farmer

Kid

बालक का गीत

'Baalak Ka Geet', a poem by Shyam Sundar Bhartiपुस्तक है मौन और अध्यापक शंकित है बालक के चेहरे पर प्रश्नचिह्न अंकित हैसुबह-सुबह खेत गया खुरपी से खोदी कर अभी-अभी आया...
Deepak Jaiswal

हम अपने घोंसलों में चाँद रखते हैं

'Hum Apne Ghonslon Mein Chand Rakhte Hain', a poem by Deepak Jaiswalचाँद हर बार सफ़ेद नहीं दिखता उनींदी आँखों से बहुत बार वह लाल दिखता...

मैं जानता हूँ

मैं उस किसान को जानता हूँ जिसके खेत में इतनी कपास होती है कि रेशे से जिसके, फांसी का फंदा बनता है।मैं उस लुहार को जानता...
Farmer, Field, Village

पटवारी

सरकार का पटवारी गाँव आता खीर-पुएँ खाता, अनपढ़ किसानों की ज़मीनों को अपने थैले में रखे होने की धमकियाँ देता जैसे कि उसने वश में कर लिया हो गाँव...
Kailash Gautam

गाँव गया था, गाँव से भागा

गाँव गया था गाँव से भागा। रामराज का हाल देखकर पंचायत की चाल देखकर आँगन में दीवाल देखकर सिर पर आती डाल देखकर नदी का पानी लाल देखकर और आँख में...
Farmers

व्यस्तता

साहेब से मिलने किसान आया है साथ में रेहु मच्छली भी लाया है साहेब व्यस्त हैं कुछ लिखने-पढ़ने में बीच-बीच में चाह की घूंट भी ले लेते...
Ox, Village, Farmer

बस इतना

'Bas Itna', a poem by Abdul Malik Khanमैंने कब कहा कि मुझे कबाब बिरियानी और काजू किशमिश का कलेवा दो तीखी सुगन्ध से सराबोर सतरंगी पोशाक दो, मैंने...
sardar puran singh

हल चलाने वाले का जीवन

'Hal Chalaane Wale Ka Jeewan', an essay by Sardar Puran Singhहल चलाने वाले और भेड़ चराने वाले प्रायः स्वभाव से ही साधु होते हैं।...

STAY CONNECTED

38,332FansLike
20,438FollowersFollow
27,949FollowersFollow
1,670SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Uski Roti - Mohan Rakesh

उसकी रोटी

बालो को पता था कि अभी बस के आने में बहुत देर है, फिर भी पल्ले से पसीना पोंछते हुए उसकी आँखें बार-बार सड़क...
Abstract, Time

चींटी और मास्क वाले चेहरे

स्वप्न में दिखती है एक चींटी और मास्क वाले चेहरे चींटी रेंगती है पृथ्वी की नाल के भीतर मास्क वाले चेहरे घूमते हैं भीड़ मेंसर से...
Abstract, Woman

जीवन सपना था, प्रेम का मौन

जीवन सपना था आँखें सपनों में रहीं और सपने झाँकते रहे आँखों की कोर से यूँ रची हमने अपनी दुनिया जैसे बचपन की याद की गईं कविताएँ हमारा दुहराया...
Kedarnath Singh

फ़र्क़ नहीं पड़ता

हर बार लौटकर जब अन्दर प्रवेश करता हूँ मेरा घर चौंककर कहता है 'बधाई'ईश्वर यह कैसा चमत्कार है मैं कहीं भी जाऊँ फिर लौट आता हूँसड़कों पर परिचय-पत्र माँगा...
Naveen Sagar

वह मेरे बिना साथ है

वह उदासी में अपनी उदासी छिपाए है फ़ासला सर झुकाए मेरे और उसके बीच चल रहा हैउसका चेहरा ऐंठी हुई हँसी के जड़वत् आकार में दरका है उसकी आँखें बाहर...
Nurit Zarchi

नूइत ज़ारकी की कविता ‘विचित्रता’

नूइत ज़ारकी इज़राइली कवयित्री हैं जो विभिन्न साहित्य-सम्बन्धी पुरस्कारों से सम्मानित हैं। प्रस्तुत कविता उनकी हीब्रू कविता के तैल गोल्डफ़ाइन द्वारा किए गए अंग्रेज़ी...
Sunset

कितने प्रस्थान

सूरज अधूरी आत्महत्या में उड़ेल आया दिन-भर का चढ़ना उतरते हुए दृश्य को सूर्यास्त कह देना कितना तर्कसंगत है यह संदेहयुक्त है अस्त होने की परिभाषा में कितना अस्त हो जाना दोबारा...
Naresh Mehta

कवच

मैं जानता हूँ तुम्हारा यह डर जो कि स्वाभाविक ही है, कि अगर तुम घर के बाहर पैर निकालोगे तो कहीं वैराट्य का सामना न हो जाए, तुम्हें...
Vishesh Chandra Naman

मैं

मैं एक तीर था जिसे सबने अपने तरकश में शामिल किया किसी ने चलाया नहींमैं एक फूल था टूटने को बेताब सबने मुझे देखा, मेरे रंगों की तारीफ़ की और मैं...
Gaurav Bharti

कविताएँ: नवम्बर 2021

यात्री भ्रम कितना ख़ूबसूरत हो सकता है? इसका एक ही जवाब है मेरे पास कि तुम्हारे होने के भ्रम ने मुझे ज़िन्दा रखातुम्हारे होने के भ्रम में मैंने शहर...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)