‘Two Bodies’, a poem by Octavio Paz
अनुवाद: पुनीत कुसुम

दो जिस्म रूबरू
कभी-कभी हैं दो लहरें
और रात है महासागर

दो जिस्म रूबरू
कभी-कभी हैं दो पत्थर
और रात रेगिस्तान है

दो जिस्म रूबरू
कभी-कभी हैं दो जड़ें
बंधी हुई-सी रात में

दो जिस्म रूबरू
कभी-कभी हैं दो चाकू
और रात से निकले चिंगारी

दो जिस्म रूबरू
हैं टूटते से दो तारे
इक ख़ाली आसमान में!

यह भी पढ़ें: माया ऐंजेलो की कविता ‘मुझे मत दिखाना अपनी दया’

Previous articleडॉ. मंजु ए. कृत ‘निराला की सरोज-स्मृति की काव्यशैली: एक वैज्ञानिक अध्ययन’
Next articleवक़्त से नाराज़ हूँ
ऑक्टेवियो पॉज़
मेक्सिकन नोबल पुरस्कृत कवि!

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here