उछाला जा रहा है

‘Uchhala Ja Raha Hai’,
by Chandrasen Virat

खींचकर मतलब निकाला जा रहा है
व्यर्थ ही प्रकरण उछाला जा रहा है

मूल मुद्दों से हटाकर ध्यान सबका
बहस में हर तथ्य टाला जा रहा है

सत्य पर परतें चढ़ाकर संभ्रमों की
झूठ के अनुरूप ढाला जा रहा है

पक्ष में निर्णय लगाने के लिये ही
कुर्सियों पर ज़ोर डाला जा रहा है

यह दुराग्रह देखिए बासी कढ़ी को
छोंक देकर फिर उबाला जा रहा है

दूसरे के दाग़ देखे जबकि ख़ुद के
पैर के नीचे पनाला जा रहा है

आदमी को पतित कर दे गुह्य मन में
वह घृणित संदेह पाला जा रहा है

जो गिरे हैं और उनको रौंद डाला
स्थापितों को ही सम्भाला जा रहा है

नाचघर निर्माण की परियोजना में
ध्वंस होने को शिवाला जा रहा है

रोशनी के स्त्रोत की चिन्ता करो तुम
आ रहा है तम, उजाला जा रहा है।

यह भी पढ़ें: ‘एक कबूतर चिट्ठी लेकर पहली-पहली बार उड़ा’

Book by Chandrasen Virat: