‘Yadi Main Kahoon’, a poem by Shailendra

यदि मैं कहूँ कि तुम बिन मानिनि
व्यर्थ ज़िन्दगी होगी मेरी,
नहीं हँसेगा चाँद हमेशा
बनी रहेगी घनी अंधेरी,
बोलो, तुम विश्वास करोगी?

यदि मैं कहूँ कि हे मायाविनि
तुमने तन में प्राण भरा है,
और तुम्हीं ने क्रूर मरण के
कुटिल करों से मुझे हरा है,
बोलो, तुम विश्वास करोगी?

यदि मैं कहूँ कि तुम बिन स्वामिनि
टूटेगा मन का इकतारा,
बिखर जाएँगे स्वप्न
सूख जाएगी मधु-गीतों की धारा,
बोलो, तुम विश्वास करोगी?

यह भी पढ़ें: शैलेन्द्र की कविता ‘नादान प्रेमिका से’

Recommended Book:

Previous articleवही टूटा हुआ दर्पण बराबर याद आता है
Next articleकुछ घनिष्ठ सम्बन्ध
शैलेन्द्र
शंकरदास केसरीलाल शैलेन्द्र (१९२३-१९६६) हिन्दी के एक प्रमुख गीतकार थे। जन्म रावलपिंडी में और देहान्त मुम्बई में हुआ। इन्होंने राज कपूर के साथ बहुत काम किया। शैलेन्द्र हिन्दी फिल्मों के साथ-साथ भोजपुरी फिल्मों के भी एक प्रमुख गीतकार थे।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here