ज़रूरी है प्रेम करते रहना

‘Zaroori Hai Prem Karte Rehna’, poem by Mahima Shree

1

जब कभी हम मिलें
मुझे हर वो दरख़्त, चिड़िया, तितली
औ उन सारे जंगली फूलों के नाम बताना
जो तुम्हारी उदास शामों में
जुगनू की तरह नुमाया थे
तमाम उलझनों को सुलझाने का
शायद अनजाने ही कोई सिरा हाथ आ जाए।

2

पहाड़ अपने गीत झरनों को सौंपते आए हैं
सैलानी सोचते हैं-
‘झरने कितना सुंदर गाते हैं।’

3

शब्दों की पगडण्डियों पर चलकर देखा
कई बार ये भटकाती हैं,
उलझाती भी हैं,
एक प्रेम ही है जो बचा ले जाता है…
अत: ज़रूरी है प्रेम करते रहना!

यह भी पढ़ें: ‘आदम की भूख उम्र नहीं देखती, बस सूँघती है मादा गंध’

Recommended Book: