एक दिन
इजाज़त मिली सबको
अपना प्रिय चुनने की
सूरज ने रौशनी ली
चाँद, तारों के साथ हो लिया
नदियाँ, सागर से जा मिलीं
हवा, खुशबू के पीछे भाग गयी
बरखा ने बादल को
गले लगाया
और प्रेम…
प्रेम ने थाम ली
प्रतीक्षा की कलाई!

यह भी पढ़ें:

कुँवर नारायण की कविता ‘सूर्योदय की प्रतीक्षा में’
रश्मि सक्सेना की कविता ‘प्रतीक्षा’
राहुल बोयल की कविता ‘प्रतीक्षा और प्रतिफल’

Previous articleसन्नाटा
Next articleबात और जज़्बात

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here