‘Bheed’, a poem by Adarsh Bhushan

भीड़ ने
सिर्फ़
भिड़ना सीखा है,
दस्तक तो
सवाल देते हैं
भूखी जून के
अंधे बस्त के
टूटे विश्वास के
लंगड़े तंत्र के
लाइलाज स्वप्न के-
कि इस बार
चुनाव किस मुद्दे
पर लड़ा जाए?
कि इस बार लोकतंत्र
कौन सी
नयी बैसाखी
लेकर आया है?
कि इस बार
मौन कौन से
नए दर्ज़ी से
लिबास सिलवाने
जाएगा?
कि इस बार
इंसानियत में
कौन से
नए रंग की
मिलावट की जाएगी?

यह भी पढ़ें: आदर्श भूषण की कविता ‘राम की खोज’

Recommended Book:

Previous articleकैसे पता चला कि वसन्त आया
Next articleचुनना प्रेम
आदर्श भूषण
आदर्श भूषण दिल्ली यूनिवर्सिटी से गणित से एम. एस. सी. कर रहे हैं। कविताएँ लिखते हैं और हिन्दी भाषा पर उनकी अच्छी पकड़ है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here