दादा का मुँह जब चलता है
मुझे हँसी तब आती है,
अम्माँ मेरे कान खींचकर
मुझको डांट पिलाती है!

किंतु हँसी बढ़ती जाती है
मेरे वश की बात नहीं,
चलते देख पोपले मुख को
रुक सकती है हँसी कहीं!

ठुड्डी की वह उछल कूद-सी
और पिचकना गालों का,
और कवायद वह होठों की
नाच मूँछ के बालों का!

मित्र, देखते ही बनता है
बहुत कठिन है समझाना,
तुम्हें देखना हो तो तुम भी
ऐसे समय चले आना।

Previous articleद्वारा 56 एपीओ
Next articleगर्म पकौड़ी

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here