गोरी चमड़ी

‘Gori Chamdi’, a poem by Vishal Andhare

वो धूप में सेंकती है
अपनी परछाईं
और छाँव के अंधेरे में
किस्मत के पाँव

हाथ लम्बे हैं उसके
किस्मत बौनी

वो जानती है
मुश्किलों पर झाड़ू लगाना

चाय भी पीती है
अपनी कड़वी जुबान से

अब एक नया काम वो रोज़ करती है
अपनी गोरी चमड़ी को
धूप में काला करती है

क्योंकि रात के अंधेरे में
फुटपाथ पर मंडराते हैं
वहशियत के काले साये

वो बनना
नहीं चाहती शिकार

दिन की धूप में जब
धुएँदार कारखानों से निकलते हैं
काले बादल
वो रात में उन्हें
ओढ़कर सोना चाहती है
उस अंधकार में

कुछ दिनों बाद शायद
वो घिसना शुरू कर सकती है
बड़े पत्थर से गोरी चमड़ी
और लहूलुहान भी कर सकती
है वो उस चमड़ी को

उसे अपने रक्त से लाल कर
लाल रंग दे सकती है वो

पर
वो बचना
चाहती है

उन रात की
वहशियत भरी नजरों से

जिनके कारण
दिनभर की थकान के
बावजूद
वो ले नहीं सकी है
सुकून भरी नींद!

यह भी पढ़ें: अनुपमा झा की कविता ‘काली स्त्री’

Book by Vishal Andhare: