कविता एक चाकू है

‘Kavita Ek Chaku Hai’, a poem by Nand Kishore Acharya

[‘केवल एक पट्टी ने’ संग्रह से]

दर्पण नहीं है वह
जब चाहा देख लिया
अपना चेहरा जाकर

फूल भी नहीं वह कोई
रँगो-बू में जिसकी
डूबे ही रहो दिन-रात

कोई खिलौना भी नहीं
चाबी भरते ही चलने लगे
मन बहलाने की ख़ातिर

कविता एक चाकू है
गहरे तक धँसा
आत्मा में-
न मुमकिन रख पाना
जिसको,
निकालना
मर जाना निश्चय।

यह भी पढ़ें: नंदकिशोर आचार्य का वक्तव्य ‘कविता का कोई अर्थ नहीं है’

Book by Nand Kishore Acharya: