‘Mazdoor Ishwar’, a poem by Joshnaa Banerjee Adwanii

अनुपस्थितियों को सिखायी
सोलह कलाएँ,
गुनाह के अनेक तथ्य बनाकर
प्रायश्चित्त को मोक्ष दिया,
संगीत की लय में प्रेमियों की
आत्माओं के लिए गुंजाइश रखी,
वचन के साथ बाँध दिया
दैनिक अभ्यास,
दुधमुँहे बच्चों को शब्दकोष
से दूर रखा,
टिप्पणियों मे भर दी छटाँक
भर निर्लज्जता।

ईश्वर से बड़ा मज़दूर कौन!

यह भी पढ़ें:

वंदना कपिल की कविता ‘ईश्वर से अनुबंध है प्रेम का’
निशांत उपाध्याय की कविता ‘प्रेम ईश्वर’
अनुराधा सिंह की कविता ‘ईश्वर नहीं नींद चाहिए’

Book by Joshnaa Banerjee Adwanii:

Previous article‘भद्दी तस्वीर’ और ‘मन्दिर और रोटी’
Next articleबातें
जोशना बैनर्जी आडवानी
जोशना इन्टर कॉलेज में प्राचार्या हैं और कत्थक व भरतनाट्यम में प्रभाकर कर चुकी हैं। जोशना को कविताएँ लिखना बेहद पसंद है और कविताएँ लिखते वक़्त वे अपने माता-पिता को बहुत याद करती हैं, जो अब दुनिया में नहीं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here