सनसनाहटों के साथ
गड़गड़ाहटो के साथ
आ गया
पवन रथ पे बैठ कर
मेरा मेघ देवता
दोश पर हवाओं के
बाल उड़ाता हुआ
उसका जामुनी बदन
आसमाँ पे छा गया
दूर तक गरज हुई
ज़मीं दहलने लगी
आसमाँ सिमट गया
बड़ी घन-गरज के साथ
टूट कर बरस पड़ा
और मैं आँख मूँद कर
हाथ पसारे हुए
दौड़ती चली गई
अंग से लगा रही
नील उस के अंग का
मैं कि बिंत-ए-हिज्र हूँ
मुझ में ऐसी प्यास है
मैं कि मेरे वास्ते
वस्ल भी फ़िराक़ है
मुझ में ऐसी आग है
मेघ-रस में भीग कर
हाँफती खड़ी-खड़ी
कह रहा है दिल मेरा
यही है
मधुर मिलन की घड़ी..

Previous articleसीत मिश्रा कृत ‘रूममेट्स’
Next articleशिक्षक को पत्र
फ़हमीदा रियाज़
फ़हमीदा रियाज़ उर्दू की प्रमुख शायरा एवं लेखिका हैं। इनका जन्म 28 जुलाई 1946 को मेरठ में हुआ। बाद में इनका परिवार पाकिस्तान जाकर बस गया। गोदावरी, ख़त-ए-मरमुज़ इनके प्रमुख संग्रह हैं। 1980 के दौर में पाकिस्तान के राष्ट्रपति जनरल जिया उल हक के शासन में उनको और उनके पति को निर्वासन के बाद भारत में शरण लेनी पड़ी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here