ओ प्यारी पृथ्वी

ओ प्यारी पृथ्वी
हम सब की दुलारी पृथ्वी

दर्शन ने तुझे सहलाया
पुचकारा और दुलराया
पाया उसने तुम्हारा
रूप, रस और गंध

विज्ञान ने तुम्हें खोदा और बींधा
आदमी का उसने उल्लू किया सीधा

राजनीति ने तुम्हें बांटा
दिया उसने सन्नाटा
हैं उसके कई प्रसंग
दी उसने कई जंग

धर्म भी कुछ कम नहीं
किया उसने तुम्हारा शील भंग
पैदा कर भगवान को तुम्हारे कोख से
बजा रहा सब ओर है मृदंग।

(ई ई कमिंग्स की एक अंग्रेजी कविता पर आधारित)

यह भी पढ़ें:

सुमित्रानंदन पंत की कविता ‘यह धरती कितना देती है’
अनुराधा सिंह की कविता ‘क्या सोचती होगी धरती’
अमर दलपुरा की कविता ‘मैं बूढ़ी धरती पर उगा’
आदर्श भूषण की कविता ‘धरती ने अपनी त्रिज्या समेटनी शुरू कर दी है’