पास हुए हम, हुर्रे-हुर्रे!
दूर हुए गम, हुर्रे-हुर्रे!

रोज नियम से, किया परिश्रम
और खपाया भेजा।
धीरे-धीरे, थोड़ा-थोड़ा
हर दिन ज्ञान सहेजा।
थके नहीं हम, हुर्रे-हुर्रे!

हम कछुआ ही सही चले हैं
लगातार, पर धीमें,
हम खरगोश नहीं कि दौड़ें
सोएँ, रस्ते ही में।
रुका नहीं क्रम, हुर्रे-हुर्रे!

बात नकल की कोई हमने
कभी न मन में लाई,
सिर्फ पढ़ाई के बल पर ही
अहा सफलता पाई,
जीत गया श्रम, हुर्रे-हुर्रे!
पास हुए हम, हुर्रे-हुर्रे!

Previous articleचीर चुराने वाला चीर बढ़ावे है
Next article‘औरत’ – नुक्कड़ नाटक – जन नाट्य मंच

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here