कविता संग्रह ‘भेड़ियों ने कहा शुभरात्रि’ से

शोक

मैं उस तरह नहीं रो सका
जैसे शोक के उस दृश्य में
बाक़ी लोग रो रहे थे

जो निकल गया था अनन्त यात्रा पर
उसकी बहुत थोड़ी
और धुँधली स्मृतियाँ ही
मेरे पास थीं

मैं जितनी देर भी रहा
उस दृश्य के भीतर
उन स्मृतियों के न होने का ही
मातम मनाता रहा।

जुलूस

बलात्कारियों और हत्यारों के पक्ष में
निकलने वाले जुलूस में
शामिल होने से पहले
ज़रा सोच लेना
कि यह जुलूस
तुम्हारे घर के सामने से भी गुज़रेगा,
ज़रा सोच लेना
कि पूछ सकती है
तुम्हारी माँ, बहन या बेटी
कि किस बात पर
निकल रहा है यह जुलूस?

यात्रा के दौरान

अचानक टकराती है दुर्गन्ध
हमारे नथुनों से
अचानक आ जाता है रुमाल
हमारी नाकों पर
इस दृश्य से बाहर निकलते ही
हम चैन की लम्बी साँस लेते हैं
और ज़रा भी नहीं सोचते
किसका शिकार हुआ!
किसने शिकार किया!
कि उस दुर्गन्ध का क्या हुआ?
कमाल की चीज़ है
यह रुमाल भी
जो हर बार
उड़ता हुआ
आ जाता है
दृश्य और अन्तरात्मा के बीच
पर्दा बनकर।

यह भी पढ़ें: मणि मोहन के कविता संग्रह ‘भेड़ियों ने कहा शुभरात्रि’ से अन्य कविताएँ

Books by Mani Mohan:

 

 

Previous articleख़ाली हाथ, कविता ने
Next articleजो बीत गई सो बात गई
मणि मोहन
जन्म: 02 मई 1967, सिरोंज, विदिशा (म.प्र.) | शिक्षा: अंग्रेज़ी साहित्य में स्नातकोत्तर और शोध उपाधि | सम्प्रति: शा. स्नातकोत्तर महाविद्यालय, गंज बासौदा में अध्यापन। प्रकाशन: वर्ष 2003 में कविता संग्रह 'क़स्बे का कवि एवं अन्य कविताएँ', 2012 में रोमेनियन कवि मारिन सोरेसक्यू की कविताओं की अनुवाद पुस्तक 'एक सीढ़ी आकाश के लिए', 2013 में कविता संग्रह 'शायद', 2016 में कविता संग्रह 'दुर्दिनों की बारिश में रंग' तथा तुर्की कवयित्री मुईसेर येनिया की कविताओं की अनुवाद पुस्तक 'अपनी देह और इस संसार के बीच', 2020 में कविता संग्रह 'भेड़ियों ने कहा शुभरात्रि' प्रकाशित। सम्पर्क: [email protected]