Tag: Night

Jyotsna Milan

रात

सबसे पहले शुरू होता है माँ का दिन मुँह अंधेरे और सबके बाद तक चलता हैछोटी होती हैं माँ की रातें नियम से और दिन नियम से लम्बे रात में दूर तक...
Rajkamal Chaudhary

रात्रिदग्ध एकालाप

1बारूद के कोहरे में डूब गए हैं पहाड़, नदी, मकान, शहर के शहर। बीवी से छिपाकर बैंक में पैसे डालने का मतलब नहीं रह गया है अब।2मुझे चुप...
Puru Malav

पुरु मालव की कविताएँ

पार्टनर, तुम्हारी जात क्या है सच ही कहा था शेक्सपियर ने 'नाम में क्या रखा है' जो कुछ है, जाति है नाम तो नाम है, जाति थोड़ी है जो...
Woman

सारी रात

दूसरा गिलास भी ख़ाली था। मेरा गिलास, जो पहला गिलास नहीं था, ख़ाली हो रहा था। मैंने दूसरे गिलास को भी भर दिया और...
Harivansh Rai Bachchan

रात आधी खींचकर मेरी हथेली

रात आधी, खींचकर मेरी हथेली, एक उँगली से लिखा था 'प्यार' तुमने।फ़ासला था कुछ हमारे बिस्तरों में और चारों ओर दुनिया सो रही थी, तारिकाएँ ही...
Night, Lonely, Alone, Road

रात कितनी ही फ़िक्रें सर पर थीं

'Raat Kitni Hi Fikrein Sar Par Thin', a nazm by Tasneef Haidar रात कितनी ही फ़िक्रें सर पर थींजिस मकां में मेरी रिहाइश है उसे दो...
Lamp Post, Night

उलटे पैर

'Ulte Pair', a poem by Dwarika Uniyalभटकती आँखों के ज्वालामुखी ट्रैफ़िक सिग्नल पे बत्तियाँ नहीं देखते मानों फिसलते आँसुओं के बुलबुले में पिघलता लावा क़ैद हो! गरज़ती बिजलियों की तड़प दिखती पहले है और सुनायी बहुत बाद में वैसे घास काटती दरातियों से...
Mohabbat Ki Nazmein - Tasneef Haidar

एक शाम सिर्फ़ अँधेरे से सजाई जाये

एक शाम सिर्फ़ अँधेरे से सजाई जाये हवाएँ दबे पाऊँ आकर स्लाइडिंग की दराज़ों में बैठ जाएँ तुम्हारी पिंडिलयों पर मेरे पैर का अंगूठा लिख रहा हो रात का सियाह...
Moon, Night, Silhouette, Girl

चाँदनी रात में

तुम जो बनती मौसम चाँदनी रात में, ज्वार उठते हैं मुझमें चाँदनी रात में। साँस के बहाने कलियाँ भरती हैं गंध, जब तुम गुज़रती चाँदनी रात में। दिल...
Ramnaresh Tripathi

मामी निशा

चंदा मामा गए कचहरी, घर में रहा न कोई, मामी निशा अकेली घर में कब तक रहती सोई! चली घूमने साथ न लेकर कोई सखी-सहेली, देखी उसने...
Ayodhya Singh Upadhyay Hariaudh

जुगनू

पेड़ पर रात की अँधेरी में जुगनुओं ने पड़ाव हैं डाले या दिवाली मना चुड़ैलों ने आज हैं सैकड़ों दिये बाले तो उँजाला न रात में होता बादलों से भरे...
Clock, Watch, Time, Dark

रात का अपनापन

जब सब कुछ चुप हो, निःशब्द तब का शोर सबसे तीव्र होता है। बारिश की आखिरी बूँद का धीरे से भी ज़मीन पर पैर रखना सुनाई दे...

STAY CONNECTED

42,473FansLike
20,941FollowersFollow
29,168FollowersFollow
2,030SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Chen Chien-wu

चेन च्येन वू की कविताएँ

ताइवान के नांताऊ शहर में सन् 1927 में जन्मे कवि चेन च्येन वू मंदारिन, जापानी और कोरियाई भाषाओं में पारंगत कवि हैं। अपने कई...
Ekaterina Grigorova

बुल्गारियाई कवयित्री एकैटरीना ग्रिगरोवा की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा सामान्यता मुझे बाल्टिक समुद्र का भूरा पानी याद है! 16 डिग्री तापमान की अनंत ऊर्जा का भीतरी अनुशासन!बदसूरत-सी एक चीख़ निकालती है पेट्रा और उड़ जाता है आकाश में बत्तखों...
Naomi Shihab Nye

नेओमी शिहैब नाय की कविता ‘जो नहीं बदलता, उसे पहचानने की कोशिश’

नेओमी शिहैब नाय (Naomi Shihab Nye) का जन्म सेंट लुइस, मिसौरी में हुआ था। उनके पिता एक फ़िलिस्तीनी शरणार्थी थे और उनकी माँ जर्मन...
Vinita Agrawal

विनीता अग्रवाल की कविताएँ

विनीता अग्रवाल बहुचर्चित कवियित्री और सम्पादक हैं। उसावा लिटरेरी रिव्यू के सम्पादक मण्डल की सदस्य विनीता अग्रवाल के चार काव्य संग्रह प्रकाशित हो चुके...
Gaurav Bharti

कविताएँ: अगस्त 2022

विस्मृति से पहले मेरी हथेली को कैनवास समझ जब बनाती हो तुम उस पर चिड़िया मुझे लगता है तुमने ख़ुद को उकेरा है अपने अनभ्यस्त हाथों से।चारदीवारी और एक...
Nicoleta Crăete

रोमानियाई कवयित्री निकोलेटा क्रेट की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा औंधा पड़ा सपना प्यार दरअसल फाँसी का पुराना तख़्ता है, जहाँ हम सोते हैं! और जहाँ से हमारी नींद, देखना चाह रही होती है चिड़ियों की ओर!मत...
Daisy Rockwell - Geetanjali Shree

डेज़ी रॉकवेल के इंटरव्यू के अंश

लेखक ने अपनी बात कहने के लिए अपनी भाषा रची है, इसलिए इसका अनुवाद करने के लिए आपको भी अपनी भाषा गढ़नी होगी। —डेज़ी...
Kalam Ka Sipahi - Premchand Jeevani - Amrit Rai

पुस्तक अंश: प्रेमचंद : कलम का सिपाही

भारत के महान साहित्यकार, हिन्दी लेखक और उर्दू उपन्यासकार प्रेमचंद किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। प्रेमचंद ने अपने जीवन काल में कई रचनाएँ...
Priya Sarukkai Chabria

प्रिया सारुकाय छाबड़िया की कविताएँ

प्रिया सारुकाय छाबड़िया एक पुरस्कृत कवयित्री, लेखिका और अनुवादक हैं। इनके चार कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं जिनमें नवीनतम 'सिंग ऑफ़ लाइफ़ रिवीज़निंग...
aadhe adhoore mohan rakesh

आधे-अधूरे : एक सम्पूर्ण नाटक

आधे-अधूरे: एक सम्पूर्ण नाटक समीक्षा: अनूप कुमार मोहन राकेश (1925-1972) ने तीन नाटकों की रचना की है— 'आषाढ़ का एक दिन' (1958), 'लहरों के राजहंस' (1963)...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)