तुम और तुम जैसी स्त्रियाँ

तुम मुक्तिबोध की कविता की तरह थीं
समझने में कठीन
लेकिन हर मोड़ पर मोह लेने वाली

तुम मुझे बात बात पर चाक पर चढ़ा देती थीं
मेरी मिट्टी में अलग अलग मूर्तियाँ उभरने लगती थीं
मैं कील की तरह अपनी छाती में धँसता था
और खुद के खोल को खुद में टिका कर टांग देता था
एक बात बताऊँ बहुत दर्द होता है
इस क्रिया में

ये ऐसे था कि मेरे कानों में जलमृदंग बज रहे हों
और मैं हंसते हुए अपनी खाल उतार रहा हूँ
और कील तो मैं था ही

इस दोषपूर्ण जगत में मैंने दोष देखना नहीं सीखा था
इसलिए कमोबेश अंधा ही था मैं
इस बात को मैं जानता था कि देखे बिना भी चीजें जानी जा सकती हैं
अवाज़ को टटोल कर, आत्मा को छू कर और किसी के भीतर उतर कर

तुम जानती हो तुम्हारे भीतर बहुत नम मिट्टी है
शायद बहुत रोई हो तुम भीतर भीतर
मैं गंगा के किनारे का हूँ
इसलिए नम माटी से हृदय लगा बैठता हूँ
मेरी स्मृतियों के पाँव
और मन की नाव उसी तट पर टिके हैं
जहां बैठ कर तुम रोई हो

हर कविता में कविता हो ये ज़रूरी नहीं
ठीक वैसे जैसे हर प्रेम में प्रेम
हर हाँ में हाँ
और हर ना में ना

जीवन श्याम श्वेत कभी नहीं रहा
तो कैसे ऐसे परिभाषा के खांचें जीवन को समेट पाते
मैं जो ये कह रहा हूँ
ठीक इसी समय
भीतर एक स्त्री पाथ रही है उपले
और मेरे माथे पर पड़ रहे हैं निशान
जब अकेलेपन का अकाल पड़ता है
मैं अपने माथे पर महसूसता हूँ उसी स्त्री की उंगलियाँ
बदलने लगता हूँ उपले में
झोंक देता हूँ खुद को आग में
आग भूख मिटाती है और दुःख भी
आग विदाई का रथ भी है
और दीपक की आभा भी
और विद्वान कहते हैं कि आग मुक्तिबोध की कविता भी है
तो तुम भी तो आग हुई

एक दिन आएगा जब मैं तुम में समाऊंगा और विदा हो जाऊँगा
जैसे कोई उपला राख होता है अग्नि में
तुमने और तुम जैसी स्त्रियों ने सृजा है मुझे
तुम्हें और तुम जैसी स्त्रियों को ही अधिकार है
कि मुझे भस्म करें, मिटाएँ, राख कर दें!


Link to buy the book:

Special Facts:

Related Info:

अनुराग अनंत
अनुराग अनंत

अनुराग अनंत पत्रकारिता एवं जनसंचार में पीएचडी कर रहे हैं। रहने वाले इलाहाबाद के हैं और हालिया ठिकाना अंबेडकर विश्ववद्यालय लखनऊ है।

All Posts

कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)