‘Ukti’, a poem by Suryakant Tripathi Nirala

कुछ न हुआ, न हो
मुझे विश्व का सुख, श्री, यदि केवल
पास तुम रहो!

मेरे नभ के बादल यदि न कटे-
चन्द्र रह गया ढका,
तिमिर रात को तिरकर यदि न अटे
लेश गगन-भास का,
रहेंगे अधर हँसते, पथ पर, तुम
हाथ यदि गहो

बहु-रस साहित्य विपुल यदि न पढ़ा –
मन्द सबों ने कहा,
मेरा काव्यानुमान यदि न बढ़ा –
ज्ञान, जहाँ का रहा,
रहे, समझ है मुझमें पूरी, तुम
कथा यदि कहो।

यह भी पढ़ें: ‘मेरे घर के पश्चिम ओर रहती है’

Book by Suryakant Tripathi Nirala:

Previous articleमनुष्यता
Next articleकश्मीर के बच्चे के नाम
सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला'
सूर्यकान्त त्रिपाठी 'निराला' (21 फरवरी, 1899 - 15 अक्टूबर, 1961) हिन्दी कविता के छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक माने जाते हैं। वे जयशंकर प्रसाद, सुमित्रानंदन पंत और महादेवी वर्मा के साथ हिन्दी साहित्य में छायावाद के प्रमुख स्तंभ माने जाते हैं। उन्होंने कहानियाँ, उपन्यास और निबंध भी लिखे हैं किन्तु उनकी ख्याति विशेषरुप से कविता के कारण ही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here