बुढ़िया ने गोद में रखा
अपने बुड्ढे का सिर
और मालिश करने लगी
सिर के उस हिस्से में भी
जहाँ से
बरसों पहले विदा ले चुके थे बाल

दोनों को याद आया
कि शैतान बच्चे टकला कहते हैं बुड्ढे को
और मन ही मन टिकोला मारना चाहते हैं
उसके गंजे सर पर

दोनों हँसे
अपने बचे हुए दाँत दिखाते हुए
बुढ़िया ने हँसते हुए टिकाना चाहा
(जितना वह झुक पायी)
झुर्रियों भरा अपना गाल बुड्ढे के माथे पर

बैलगाड़ी के एक बहुत पुराने पहिए ने
याददाश्त सम्भालते हुए गर्व से बताया—
“मैं ही लेकर आया था इनकी बारात!”

देवेश पथ सारिया की कविता 'स्त्री से बात'

Recommended Book:

Previous articleतुम्हारे बाद
Next article‘अन्दाज़-ए-बयाँ उर्फ़ रवि कथा’ : रवींद्र कालिया की स्मृति गाथा
देवेश पथ सारिया
कवि एवं गद्यकार।पुस्तकें— 1. कविता संग्रह: 'नूह की नाव' (2022) : साहित्य अकादेमी, दिल्ली से। 2. कथेतर गद्य: 'छोटी आँखों की पुतलियों में' (2022) ताइवान डायरी : सेतु प्रकाशन, दिल्ली से। 3. अनुवाद: 'हक़ीक़त के बीच दरार' (2021) : वरिष्ठ ताइवानी कवि ली मिन-युंग के कविता संग्रह का हिंदी अनुवाद।उपलब्धियाँ : 1. ताइवान के संस्कृति मंत्रालय की योजना के अंतर्गत 'फॉरमोसा टीवी' पर कविता पाठ एवं लघु साक्षात्कार। 2. प्रथम कविता संग्रह का प्रकाशन साहित्य अकादेमी की नवोदय योजना के अंतर्गत। 3. बिंज एवं नोशन प्रेस द्वारा आयोजित राष्ट्रीय कहानी लेखन प्रतियोगिता (जुलाई-2022) में प्रथम स्थान।अन्य भाषाओं में अनुवाद/प्रकाशन: कविताओं का अनुवाद अंग्रेज़ी, मंदारिन चायनीज़, रूसी, स्पेनिश, बांग्ला, मराठी, पंजाबी और राजस्थानी भाषा-बोलियों में हो चुका है। इन अनुवादों का प्रकाशन लिबर्टी टाइम्स, लिटरेरी ताइवान, ली पोएट्री, यूनाइटेड डेली न्यूज़, स्पिल वर्ड्स, बैटर दैन स्टारबक्स, गुलमोहर क्वार्टरली, बाँग्ला कोबिता, इराबोती, कथेसर, सेतु अंग्रेज़ी, प्रतिमान पंजाबी और भरत वाक्य मराठी पत्र-पत्रिकाओं में हुआ है। सम्प्रति: ताइवान में खगोल शास्त्र में पोस्ट डाक्टरल शोधार्थी। मूल रूप से राजस्थान के राजगढ़ (अलवर) से सम्बन्ध।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here