‘Samajh’, a poem by Anurag Tiwari

मैंने तुम्हें बड़ी बेतरतीबी से पढ़ा
एकदम हड़बड़ी में
किसी दिलचस्प किताब को
जल्दी पढ़ने के लालच में होने की तरह,
मैं बहुत जल्दी में था यह कहने को
कि किताब मैंने पढ़ ली, किताब मेरी हुई
कभी पीछे का कोई पन्ना
कभी बीच का
जहाँ से पढ़ा वहीं से मन लग गया,
ज़ाहिर है तुम दिलचस्पी की हद से ज़्यादा दिलचस्प थीं
और आख़िर मैं कहने लग गया
कि मैंने तुम्हें पूरा पढ़ डाला

जबकि मुझे तुम्हारी प्रस्तावना को खोदना था
वहाँ तुम्हें ठीक से समझने के इशारे
जीवाश्म की तरह मिलते

किताब के बीच और आख़िरी के पन्ने
उसके ख़ुद के हिमशैल की सिर्फ़ नोक हैं
असल किताब दबी होती है
उसकी शुरुआत के समन्दर में

कभी-कभी हम ज़बरदस्ती अर्जुन बन जाते हैं
और देखते रह जाते हैं केवल पक्षी की आँख

नहीं देखते कि पक्षी की आँख क्या देखती है!
और देखते-देखते पक्षी कब अपना पेड़ बदल लेता है
हम नहीं देख पाते

हम अपने प्रेम को ख़ुद छलते हैं
युधिष्ठिर की तरह
जिसे सच कहते हैं, वह आधा होता है
जो आधा झूठ कहते हैं, वह झूठ नहीं निकलता।

यह भी पढ़ें:

मुकेश कुमार सिन्हा की कविता ‘प्रेम का अपर्वतनांक’
रूपम मिश्रा की कविता ‘प्रेम अप्रेम’
रुचि की कविता ‘प्रेम विकृति नहीं’

Book by Anurag Tiwari:

Previous articleमैंने आहुति बनकर देखा
Next articleप्रेमगीत का आलाप
अनुराग तिवारी
अनुराग तिवारी ने ऐग्रिकल्चरल एंजिनीरिंग की पढ़ाई की, लगभग 11 साल विभिन्न संस्थाओं में काम किया और उसके बाद ख़ुद का व्यवसाय भोपाल में रहकर करते हैं। बीते 10 सालों में नृत्य, नाट्य, संगीत और विभिन्न कलाओं से दर्शक के तौर पर इनका गहरा रिश्ता बना और लेखन में इन्होंने अपनी अभिव्यक्ति को पाया। अनुराग 'विहान' नाट्य समूह से जुड़े रहे हैं और उनके कई नाटकों के संगीत वृंद का हिस्सा रहे हैं। हाल ही में इनका पहला कविता संग्रह 'अभी जिया नहीं' बोधि प्रकाशन से प्रकाशित हुआ है।