Tag: Niki Pushkar

Woman india

तरुणियाँ

उनमें देखी गईं सम्भावनाएँ खोजे गए अवसर, कब, कैसे, कहाँ व्यवहार में लायी जा सकती थी उनकी जाति— इसका गरिमायुक्त सावधानी के साथ प्रयोग किया गयाउनको दो राज्यों की...
Bound, Free

ग़ुलाम आज़ादी

मंगतराम ने दी है अपनी औरत को आज़ादी नौकरी करने कीसुबह सवेरे जब मास्टरनी बीवी चली जाती है स्कूल मंगतराम दुकान पर जमाता है महफ़िल, ताश पत्तों संग ख़ूब हँसी-ठिठोली...

गति

'Gati', a poem by Niki Pushkarहृदय-वाहिनी पर जगह-जगह अपमान के बाँधों ने मन-तरंग रुद्ध किए विषाक्त हो रहा था अन्तस-सरोवरइस दूषण से आहत हुए उर-शैवाल, मरने लगी भावनाओं की मीन, हिय-तरिणी...

दोहरी तकलीफ़

'Dohri Takleef', a poem by Niki Pushkarतुम्हें अपशब्दों से अपमानित कर कोई ख़ुशी नहीं मिलती मुझेमक़सद सिर्फ़ तुम्हें भी उतना ही अपमानित महसूस करवाना होता है, जितना मुझे होता है तुम्हारी...

तुम्हें चाहिए

'Tumhein Chahiye', a poem by Niki Pushkarजब कहा जाता है कि अब फ़ोन करने की ज़रूरत नहीं, तब परोक्ष रूप से यह उलाहना होता है कि इतनी...
Man Woman

प्रणय-व्यूह

व्यूह बहुत पहले रचा जा चुका होता है जाने कितने दिवसों से चतुरता और कुटिलता मिलकर रणनीति तय करते हैं तब एक प्रणय-षड्यंत्र तैयार किया जाता है प्रेयस एक...

तब आना

'Tab Aana', a poem by Niki Pushkarअब आए हो? इतनी देर से? जब वयस-भानु अस्ताँचल में जाने को है अब कौन तुम्हारा स्वागत करेगा पुष्प अपनी पंखुड़याँ समेटे सोने को हैं...

मैं नहीं, तुम

'Main Nahi, Tum', a poem by Niki Pushkarहाँ, वह व्यक्तित्व का गाम्भीर्य ही था कि जिसके सम्मुख मुखर होता गया निरा संकोची स्वभाव, वह अटल धैर्य का सान्निध्य...
Dream

दो दुनिया

'Do Duniya', a poem by Niki Pushkarमेरी यह यात्रा दो दुनिया की है एक दुनिया, जो मेरे अन्तस की है जहाँ, ख़याली-आवास है मेरा वहाँ तुम्हारी नागरिकता बेशर्त मान्य...

मैं ही हूँ

'Main Hi Hoon', a poem by Niki Pushkarमेरी कविताओं में अक्सर मेरा अन्वेषण होता रहा है नायिका के चरित्र में मेरे चरित्र का अनुसंधान किया जाता रहा संकेतात्मक प्रश्न...
Caged Bird, Freedom

तानाशाही

'Tanashahi', a poem by Niki Pushkarप्रकटतः जो सहज आकर्षण दिख रहा था वस्तुतः कलात्मक चतुराई थी। हृदय के रिक्त स्थान को समय-असमय अपनी उपस्थिति से भरा गया और फिर बड़ी...
Poems by Niki Pushkar

निकी पुष्कर की कविताएँ

Poems: Niki Pushkar आदत सहेजने की पुरानी आदत है मेरी तुमसे भी जब जो मिला, मैंने सहेजकर हृदय में रख लिया, तुम्हारी हर एक बात, हर एक भाव-भंगिमा, सारे संवाद, मुलाक़ात की तारीख़ें, मुलाक़ात...

STAY CONNECTED

42,499FansLike
20,941FollowersFollow
29,147FollowersFollow
1,990SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Chen Chien-wu

चेन च्येन वू की कविताएँ

ताइवान के नांताऊ शहर में सन् 1927 में जन्मे कवि चेन च्येन वू मंदारिन, जापानी और कोरियाई भाषाओं में पारंगत कवि हैं। अपने कई...
Ekaterina Grigorova

बुल्गारियाई कवयित्री एकैटरीना ग्रिगरोवा की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा सामान्यता मुझे बाल्टिक समुद्र का भूरा पानी याद है! 16 डिग्री तापमान की अनंत ऊर्जा का भीतरी अनुशासन!बदसूरत-सी एक चीख़ निकालती है पेट्रा और उड़ जाता है आकाश में बत्तखों...
Naomi Shihab Nye

नेओमी शिहैब नाय की कविता ‘जो नहीं बदलता, उसे पहचानने की कोशिश’

नेओमी शिहैब नाय (Naomi Shihab Nye) का जन्म सेंट लुइस, मिसौरी में हुआ था। उनके पिता एक फ़िलिस्तीनी शरणार्थी थे और उनकी माँ जर्मन...
Vinita Agrawal

विनीता अग्रवाल की कविताएँ

विनीता अग्रवाल बहुचर्चित कवियित्री और सम्पादक हैं। उसावा लिटरेरी रिव्यू के सम्पादक मण्डल की सदस्य विनीता अग्रवाल के चार काव्य संग्रह प्रकाशित हो चुके...
Gaurav Bharti

कविताएँ: अगस्त 2022

विस्मृति से पहले मेरी हथेली को कैनवास समझ जब बनाती हो तुम उस पर चिड़िया मुझे लगता है तुमने ख़ुद को उकेरा है अपने अनभ्यस्त हाथों से।चारदीवारी और एक...
Nicoleta Crăete

रोमानियाई कवयित्री निकोलेटा क्रेट की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा औंधा पड़ा सपना प्यार दरअसल फाँसी का पुराना तख़्ता है, जहाँ हम सोते हैं! और जहाँ से हमारी नींद, देखना चाह रही होती है चिड़ियों की ओर!मत...
Daisy Rockwell - Geetanjali Shree

डेज़ी रॉकवेल के इंटरव्यू के अंश

लेखक ने अपनी बात कहने के लिए अपनी भाषा रची है, इसलिए इसका अनुवाद करने के लिए आपको भी अपनी भाषा गढ़नी होगी। —डेज़ी...
Kalam Ka Sipahi - Premchand Jeevani - Amrit Rai

पुस्तक अंश: प्रेमचंद : कलम का सिपाही

भारत के महान साहित्यकार, हिन्दी लेखक और उर्दू उपन्यासकार प्रेमचंद किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। प्रेमचंद ने अपने जीवन काल में कई रचनाएँ...
Priya Sarukkai Chabria

प्रिया सारुकाय छाबड़िया की कविताएँ

प्रिया सारुकाय छाबड़िया एक पुरस्कृत कवयित्री, लेखिका और अनुवादक हैं। इनके चार कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं जिनमें नवीनतम 'सिंग ऑफ़ लाइफ़ रिवीज़निंग...
aadhe adhoore mohan rakesh

आधे-अधूरे : एक सम्पूर्ण नाटक

आधे-अधूरे: एक सम्पूर्ण नाटक समीक्षा: अनूप कुमार मोहन राकेश (1925-1972) ने तीन नाटकों की रचना की है— 'आषाढ़ का एक दिन' (1958), 'लहरों के राजहंस' (1963)...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)