Tag: Time

Old traditional woman in saree

शिकार के बखत चाची

आ गयी चाची, साड़ी सरियाती, निहाल, निश्चिन्त। अपमान के ज़हर के दो घूँट पिए तो क्या हुआ?अब वहाँ क्या मालूम, बाथरूम मिलता कि नहीं मिलता।चाची...
Manjula Bist

संक्रमण-काल

1आज हर देश का शव नितान्त अकेला है हर देश का जीवित-भय एक हैएक है धरती एक है आकाश एक है पानी का रंग एक ही स्वाद है आँसू का एक है...
Abhigyat

कविता विरोधी समय

'Kavita Virodhi Samay', a poem by Abhigyatयह कविता विरोधी समय है क्योंकि चापलूस सच नहीं बोलते और कविता झूठ नहीं बोल सकती अगर वह सचमुच कविता है तोजिस...
Two Faces, Closed Eyes, Abstract

हमारा समय एक हादसा है

'Humara Samay Ek Hadsa Hai', a poem by Pranjal Raiदेवताओं के मुकुट सब गिर गए हैं आधे टूटे पड़े हैं- धूल में नहाए हुए, दुराग्रहों के...

समय

'Samay', a poem by Rag Ranjanक़दमों के उठने से बहुत पहले शुरू हो चुका होता है सफ़रजिन्हें हम निर्णय मानते हैं अक्सर वे लिए जा चुके...
Woman doing home chores

समय ही नहीं मिलता है

'Samay Hi Nahi Milta Hai', Hindi Kavita by Sunita Daga'समय ही नहीं मिलता है' कहते हुए चुरा लेती हैं स्त्रियाँ समय से क‌ई-क‌ई पल आते-जाते सँवारती हैं माथे पर की...
Waiting

वक़्त का अजायबघर

तुम जब चाहो घर लौट आना आने में ज़रा भी न झिझकना यहाँ की पेचीदा गलियाँ अभी भी पुरसुकून हैं घुमावदार हैं मगर बेहद आसान हैं इनमें से होकर तुम मज़े...
God, Abstract Human

जाते वक़्त माँ

'Jate Waqt Maa', Hindi Kavita by Rashmi Saxenaजिस रोज़ गयी माँ उम्र बच्चों से आकर लिपट गयी मानों खींचकर बाँध दी गयी हो रबड़ की भाँति बचपन परजैसे रात...
Moon, Night, Silhouette, Girl

ऐसे वक़्त में

ऐसे वक़्त में, जब नब्ज़ ढूँढने पर मालूम नहीं पड़ रही, और साँसे भी किसी हादसे की ओट में उखड़ जाने की फ़िराक में हैं, जब संगी-साथी दुनिया की...
Soldiers Coffin

डरे हुए समय का कवि

तब डरे हुए समय का कवि वहाँ पर विराजमान था जब बिना शहीद का दर्जा पाए लौट रहा था अर्धसैनिक शहीद और स्वागत में लीपा जा रहा...
Clock, Watch, Time, Dark

रात का अपनापन

जब सब कुछ चुप हो, निःशब्द तब का शोर सबसे तीव्र होता है। बारिश की आखिरी बूँद का धीरे से भी ज़मीन पर पैर रखना सुनाई दे...
letters, words, alphabets, hindi, shabd, akshar

सरस्वती के आविर्भाव के समय हिन्दी की अवस्था

'सरस्वती के आविर्भाव के समय हिन्दी की अवस्था' - अम्बिका प्रसाद वाजपेयीजिन मुसलमान आक्रमणकारियों ने भारत पर आक्रमण कर उसका शासन अनेक वर्षों तक...

STAY CONNECTED

42,475FansLike
20,941FollowersFollow
29,159FollowersFollow
2,030SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Chen Chien-wu

चेन च्येन वू की कविताएँ

ताइवान के नांताऊ शहर में सन् 1927 में जन्मे कवि चेन च्येन वू मंदारिन, जापानी और कोरियाई भाषाओं में पारंगत कवि हैं। अपने कई...
Ekaterina Grigorova

बुल्गारियाई कवयित्री एकैटरीना ग्रिगरोवा की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा सामान्यता मुझे बाल्टिक समुद्र का भूरा पानी याद है! 16 डिग्री तापमान की अनंत ऊर्जा का भीतरी अनुशासन!बदसूरत-सी एक चीख़ निकालती है पेट्रा और उड़ जाता है आकाश में बत्तखों...
Naomi Shihab Nye

नेओमी शिहैब नाय की कविता ‘जो नहीं बदलता, उसे पहचानने की कोशिश’

नेओमी शिहैब नाय (Naomi Shihab Nye) का जन्म सेंट लुइस, मिसौरी में हुआ था। उनके पिता एक फ़िलिस्तीनी शरणार्थी थे और उनकी माँ जर्मन...
Vinita Agrawal

विनीता अग्रवाल की कविताएँ

विनीता अग्रवाल बहुचर्चित कवियित्री और सम्पादक हैं। उसावा लिटरेरी रिव्यू के सम्पादक मण्डल की सदस्य विनीता अग्रवाल के चार काव्य संग्रह प्रकाशित हो चुके...
Gaurav Bharti

कविताएँ: अगस्त 2022

विस्मृति से पहले मेरी हथेली को कैनवास समझ जब बनाती हो तुम उस पर चिड़िया मुझे लगता है तुमने ख़ुद को उकेरा है अपने अनभ्यस्त हाथों से।चारदीवारी और एक...
Nicoleta Crăete

रोमानियाई कवयित्री निकोलेटा क्रेट की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा औंधा पड़ा सपना प्यार दरअसल फाँसी का पुराना तख़्ता है, जहाँ हम सोते हैं! और जहाँ से हमारी नींद, देखना चाह रही होती है चिड़ियों की ओर!मत...
Daisy Rockwell - Geetanjali Shree

डेज़ी रॉकवेल के इंटरव्यू के अंश

लेखक ने अपनी बात कहने के लिए अपनी भाषा रची है, इसलिए इसका अनुवाद करने के लिए आपको भी अपनी भाषा गढ़नी होगी। —डेज़ी...
Kalam Ka Sipahi - Premchand Jeevani - Amrit Rai

पुस्तक अंश: प्रेमचंद : कलम का सिपाही

भारत के महान साहित्यकार, हिन्दी लेखक और उर्दू उपन्यासकार प्रेमचंद किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। प्रेमचंद ने अपने जीवन काल में कई रचनाएँ...
Priya Sarukkai Chabria

प्रिया सारुकाय छाबड़िया की कविताएँ

प्रिया सारुकाय छाबड़िया एक पुरस्कृत कवयित्री, लेखिका और अनुवादक हैं। इनके चार कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं जिनमें नवीनतम 'सिंग ऑफ़ लाइफ़ रिवीज़निंग...
aadhe adhoore mohan rakesh

आधे-अधूरे : एक सम्पूर्ण नाटक

आधे-अधूरे: एक सम्पूर्ण नाटक समीक्षा: अनूप कुमार मोहन राकेश (1925-1972) ने तीन नाटकों की रचना की है— 'आषाढ़ का एक दिन' (1958), 'लहरों के राजहंस' (1963)...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)