Tag: Time

Old traditional woman in saree

शिकार के बखत चाची

आ गयी चाची, साड़ी सरियाती, निहाल, निश्चिन्त। अपमान के ज़हर के दो घूँट पिए तो क्या हुआ?अब वहाँ क्या मालूम, बाथरूम मिलता कि नहीं मिलता।चाची...
Manjula Bist

संक्रमण-काल

1आज हर देश का शव नितान्त अकेला है हर देश का जीवित-भय एक हैएक है धरती एक है आकाश एक है पानी का रंग एक ही स्वाद है आँसू का एक है...
Abhigyat

कविता विरोधी समय

'Kavita Virodhi Samay', a poem by Abhigyatयह कविता विरोधी समय है क्योंकि चापलूस सच नहीं बोलते और कविता झूठ नहीं बोल सकती अगर वह सचमुच कविता है तोजिस...
Two Faces, Closed Eyes, Abstract

हमारा समय एक हादसा है

'Humara Samay Ek Hadsa Hai', a poem by Pranjal Raiदेवताओं के मुकुट सब गिर गए हैं आधे टूटे पड़े हैं- धूल में नहाए हुए, दुराग्रहों के...

समय

'Samay', a poem by Rag Ranjanक़दमों के उठने से बहुत पहले शुरू हो चुका होता है सफ़रजिन्हें हम निर्णय मानते हैं अक्सर वे लिए जा चुके...
Woman doing home chores

समय ही नहीं मिलता है

'Samay Hi Nahi Milta Hai', Hindi Kavita by Sunita Daga'समय ही नहीं मिलता है' कहते हुए चुरा लेती हैं स्त्रियाँ समय से क‌ई-क‌ई पल आते-जाते सँवारती हैं माथे पर की...
Waiting

वक़्त का अजायबघर

तुम जब चाहो घर लौट आना आने में ज़रा भी न झिझकना यहाँ की पेचीदा गलियाँ अभी भी पुरसुकून हैं घुमावदार हैं मगर बेहद आसान हैं इनमें से होकर तुम मज़े...
God, Abstract Human

जाते वक़्त माँ

'Jate Waqt Maa', Hindi Kavita by Rashmi Saxenaजिस रोज़ गयी माँ उम्र बच्चों से आकर लिपट गयी मानों खींचकर बाँध दी गयी हो रबड़ की भाँति बचपन परजैसे रात...
Moon, Night, Silhouette, Girl

ऐसे वक़्त में

ऐसे वक़्त में, जब नब्ज़ ढूँढने पर मालूम नहीं पड़ रही, और साँसे भी किसी हादसे की ओट में उखड़ जाने की फ़िराक में हैं, जब संगी-साथी दुनिया की...
Soldiers Coffin

डरे हुए समय का कवि

तब डरे हुए समय का कवि वहाँ पर विराजमान था जब बिना शहीद का दर्जा पाए लौट रहा था अर्धसैनिक शहीद और स्वागत में लीपा जा रहा...
Clock, Watch, Time, Dark

रात का अपनापन

जब सब कुछ चुप हो, निःशब्द तब का शोर सबसे तीव्र होता है। बारिश की आखिरी बूँद का धीरे से भी ज़मीन पर पैर रखना सुनाई दे...
letters, words, alphabets, hindi, shabd, akshar

सरस्वती के आविर्भाव के समय हिन्दी की अवस्था

'सरस्वती के आविर्भाव के समय हिन्दी की अवस्था' - अम्बिका प्रसाद वाजपेयीजिन मुसलमान आक्रमणकारियों ने भारत पर आक्रमण कर उसका शासन अनेक वर्षों तक...

STAY CONNECTED

38,332FansLike
19,561FollowersFollow
27,839FollowersFollow
1,660SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Nurit Zarchi

नूइत ज़ारकी की कविता ‘विचित्रता’

नूइत ज़ारकी इज़राइली कवयित्री हैं जो विभिन्न साहित्य-सम्बन्धी पुरस्कारों से सम्मानित हैं। प्रस्तुत कविता उनकी हीब्रू कविता के तैल गोल्डफ़ाइन द्वारा किए गए अंग्रेज़ी...
Sunset

कितने प्रस्थान

सूरज अधूरी आत्महत्या में उड़ेल आया दिन-भर का चढ़ना उतरते हुए दृश्य को सूर्यास्त कह देना कितना तर्कसंगत है यह संदेहयुक्त है अस्त होने की परिभाषा में कितना अस्त हो जाना दोबारा...
Naresh Mehta

कवच

मैं जानता हूँ तुम्हारा यह डर जो कि स्वाभाविक ही है, कि अगर तुम घर के बाहर पैर निकालोगे तो कहीं वैराट्य का सामना न हो जाए, तुम्हें...
Vishesh Chandra Naman

मैं

मैं एक तीर था जिसे सबने अपने तरकश में शामिल किया किसी ने चलाया नहींमैं एक फूल था टूटने को बेताब सबने मुझे देखा, मेरे रंगों की तारीफ़ की और मैं...
Gaurav Bharti

कविताएँ: नवम्बर 2021

यात्री भ्रम कितना ख़ूबसूरत हो सकता है? इसका एक ही जवाब है मेरे पास कि तुम्हारे होने के भ्रम ने मुझे ज़िन्दा रखातुम्हारे होने के भ्रम में मैंने शहर...
God, Abstract Human

कौन ईश्वर

नहीं है तुम्हारी देह में यह रुधिर जिसके वर्ण में अब ढल रही है दिवा और अँधेरा सालता हैरोज़ थोड़ी मर रही आबादियों में रोज़ थोड़ी बढ़ रही...
Haruki Murakami

हारुकी मुराकामी की कहानी ‘सातवाँ आदमी’

कहानी: 'सातवाँ आदमी' लेखक: हारुकी मुराकामी जापानी से अनुवाद: क्रिस्टोफ़र एलिशन हिन्दी अनुवाद: श्रीविलास सिंह"वह मेरी उम्र के दसवें वर्ष के दौरान सितम्बर का एक अपराह्न था...
Aashika Shivangi Singh

आशिका शिवांगी सिंह की कविताएँ

माँ-पिता प्रेमी-प्रेमिका नहीं बन सके मेरी माँ जब भी कहती है— "प्रेम विवाह ज़्यादा दिन नहीं चलते, टूट जाते हैं" तब अकस्मात ही मुझे याद आने लगते...
Lee Min Yung

कविता सरहदों के पार, हक़ीक़त के बीच दरार और कुछ बेतरतीब विचार

वरिष्ठ ताइवानी कवि एवं आलोचक ली मिन-युंग की कविताओं के हिन्दी अनुवाद का संकलन 'हक़ीक़त के बीच दरार' जुलाई में पाठकों तक पहुँचा। साहित्यिक...
Thaharti Sanson Ke Sirhane Se - Ananya Mukherjee

दुःख, दर्द और उम्मीद का मौसम (अनन्य मुखर्जी की कैंसर डायरी)

'ठहरती साँसों के सिरहाने से' अनन्या मुखर्जी की डायरी है जो उन्होंने 18 नवम्बर, 2018 को स्तन कैंसर से लड़ाई हार जाने से पहले...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)