Tag: Time

Old traditional woman in saree

शिकार के बखत चाची

आ गयी चाची, साड़ी सरियाती, निहाल, निश्चिन्त। अपमान के ज़हर के दो घूँट पिए तो क्या हुआ?अब वहाँ क्या मालूम, बाथरूम मिलता कि नहीं मिलता।चाची...
Manjula Bist

संक्रमण-काल

1आज हर देश का शव नितान्त अकेला है हर देश का जीवित-भय एक हैएक है धरती एक है आकाश एक है पानी का रंग एक ही स्वाद है आँसू का एक है...
Abhigyat

कविता विरोधी समय

'Kavita Virodhi Samay', a poem by Abhigyatयह कविता विरोधी समय है क्योंकि चापलूस सच नहीं बोलते और कविता झूठ नहीं बोल सकती अगर वह सचमुच कविता है तोजिस...
Two Faces, Closed Eyes, Abstract

हमारा समय एक हादसा है

'Humara Samay Ek Hadsa Hai', a poem by Pranjal Raiदेवताओं के मुकुट सब गिर गए हैं आधे टूटे पड़े हैं- धूल में नहाए हुए, दुराग्रहों के...

समय

'Samay', a poem by Rag Ranjanक़दमों के उठने से बहुत पहले शुरू हो चुका होता है सफ़रजिन्हें हम निर्णय मानते हैं अक्सर वे लिए जा चुके...
Woman doing home chores

समय ही नहीं मिलता है

'Samay Hi Nahi Milta Hai', Hindi Kavita by Sunita Daga'समय ही नहीं मिलता है' कहते हुए चुरा लेती हैं स्त्रियाँ समय से क‌ई-क‌ई पल आते-जाते सँवारती हैं माथे पर की...
Waiting

वक़्त का अजायबघर

तुम जब चाहो घर लौट आना आने में ज़रा भी न झिझकना यहाँ की पेचीदा गलियाँ अभी भी पुरसुकून हैं घुमावदार हैं मगर बेहद आसान हैं इनमें से होकर तुम मज़े...
God, Abstract Human

जाते वक़्त माँ

'Jate Waqt Maa', Hindi Kavita by Rashmi Saxenaजिस रोज़ गयी माँ उम्र बच्चों से आकर लिपट गयी मानों खींचकर बाँध दी गयी हो रबड़ की भाँति बचपन परजैसे रात...
Moon, Night, Silhouette, Girl

ऐसे वक़्त में

ऐसे वक़्त में, जब नब्ज़ ढूँढने पर मालूम नहीं पड़ रही, और साँसे भी किसी हादसे की ओट में उखड़ जाने की फ़िराक में हैं, जब संगी-साथी दुनिया की...
Soldiers Coffin

डरे हुए समय का कवि

तब डरे हुए समय का कवि वहाँ पर विराजमान था जब बिना शहीद का दर्जा पाए लौट रहा था अर्धसैनिक शहीद और स्वागत में लीपा जा रहा...
Clock, Watch, Time, Dark

रात का अपनापन

जब सब कुछ चुप हो, निःशब्द तब का शोर सबसे तीव्र होता है। बारिश की आखिरी बूँद का धीरे से भी ज़मीन पर पैर रखना सुनाई दे...
letters, words, alphabets, hindi, shabd, akshar

सरस्वती के आविर्भाव के समय हिन्दी की अवस्था

'सरस्वती के आविर्भाव के समय हिन्दी की अवस्था' - अम्बिका प्रसाद वाजपेयीजिन मुसलमान आक्रमणकारियों ने भारत पर आक्रमण कर उसका शासन अनेक वर्षों तक...

STAY CONNECTED

42,150FansLike
20,941FollowersFollow
29,073FollowersFollow
1,840SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Magnus Grehn

स्वीडिश कवि मैगनस ग्रेन की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा आंधी के बाद सेंट फ़ेगंस जाने की राह में एम 4 पर हमारी गाड़ी दौड़ गई वेल्स के बीचों-बीच सेंट फ़ेगंस की ओर आंधी के बाद...
Naomi Shihab Nye

नेओमी शिहैब नाय की कविता ‘प्रसिद्ध’

नेओमी शिहैब नाय (Naomi Shihab Nye) का जन्म सेंट लुइस, मिसौरी में हुआ था। उनके पिता एक फ़िलिस्तीनी शरणार्थी थे और उनकी माँ जर्मन...
Shehar Se Dus Kilometer - Nilesh Raghuwanshi

किताब अंश: ‘शहर से दस किलोमीटर’ – नीलेश रघुवंशी

'शहर से दस किलोमीटर' ही वह दुनिया बसती है जो शहरों की न कल्पना का हिस्सा है, न सपनों का। वह अपने दुखों, अपने...
Shri Vilas Singh

श्रीविलास सिंह की कविताएँ

सड़कें कहीं नहीं जातीं सड़कें कहीं नहीं जातीं वे बस करती हैं दूरियों के बीच सेतु का काम, दो बिंदुओं को जोड़तीं रेखाओं की तरह, फिर भी वे पहुँचा देती...
Ret Samadhi - Geetanjali Shree

गीतांजलि श्री – ‘रेत समाधि’

गीतांजलि श्री का उपन्यास 'रेत समाधि' हाल ही में इस साल के लिए दिए जाने वाले बुकर प्राइज़ के लिए चयनित अन्तिम छः किताबों...
Tom Phillips

टॉम फ़िलिप्स की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा युद्ध के बाद ज़िन्दगी कुछ चीज़ें कभी नहीं बदलतीं बग़ीचे की झाड़ियाँ हिलाती हैं अपनी दाढ़ियाँ बहस करते दार्शनिकों की तरह जबकि पैशन फ़्रूट की नारंगी मुठ्ठियाँ जा...
Javed Alam Khan

जावेद आलम ख़ान की कविताएँ

तुम देखना चांद तुम देखना चांद एक दिन कविताओं से उठा ज्वार अपने साथ बहा ले जाएगा दुनिया का तमाम बारूद सड़कों पर क़दमताल करते बच्चे हथियारों को दफ़न...
Shyam Bihari Shyamal - Sangita Paul - Kantha

श्यामबिहारी श्यामल जी के साथ संगीता पॉल की बातचीत

जयशंकर प्रसाद के जीवन पर केंद्रित उपन्यास 'कंथा' का साहित्यिक-जगत में व्यापक स्वागत हुआ है। लेखक श्यामबिहारी श्यामल से उपन्यास की रचना-प्रकिया, प्रसाद जी...
Shaheen Bagh - Bhasha Singh

किताब अंश: शाहीन बाग़ – लोकतंत्र की नई करवट

भाषा सिंह की किताब 'शाहीन बाग़ : लोकतंत्र की नई करवट' उस अनूठे आन्दोलन का दस्तावेज़ है जो राजधानी दिल्ली के गुमनाम-से इलाक़े से...
Woman with dupatta

सहेजने की आनुवांशिकता में

कहीं न पहुँचने की निरर्थकता में हम हमेशा स्वयं को चलते हुए पाते हैं जानते हुए कि चलना एक भ्रम है और कहीं न पहुँचना यथार्थदिशाओं के...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)