क्या हुआ होगा उन भाषाओं का
जिन्हें बोलने वाले लोग
करते गए पलायन
और अपने नए ठिकाने पर
बोलने लगे नई स्थानीय भाषा
छोड़ते गए अपनी माँ-बोली को
पिछड़ेपन की निशानी समझकर

छोड़ते रहने की इस पुनरावृत्ति ने
लील लिया कितनी ही ज़िंदा भाषाओं को

सम्भव है
उन्हीं में से कुछ भाषाओं में लिखी गई हों
सबसे सुंदर कविताएँ
और साहित्य की अनसुनी विधाओं में रचनाएँ,
दोपहर की नींद से उठकर
बोले गए हो दाम्पत्य के सबसे प्रेमिल शब्द

सम्भव है
हम लिख रहे हों कहीं कमतर
भौतिक शास्त्र के किसी वितरण के ग्राफ़ की चोटी
गई हो कट, उस भाषा के खो जाने से
और हम रचनात्मक सपाट पर चल रहे हों
या चढ़ रहे हों छोटी-मोटी चोटियाँ
जबकि किसी शिलालेख पर उकेरी लकीरें
तामीर हों कवित्व के उपेक्षित शिखर की

विलुप्त हो गई भाषाओं में से
शायद बच गई हो कोई एकाध
गुप्त भाषा
जिसका इस्तेमाल करते हों सैनिक
कोडेड संदेश भेजने के लिए

युद्ध पर जाने से पहले प्रेयसी को
उसी भाषा का गीत सुनाता हो सैनिक
बिना समझाए उसका मतलब
(सेना की गोपनीयता की शर्त के चलते)
जिसे वह समझती हो
कुछ रहस्यमय अगड़म-बगड़म
और सहानुभूति रखती हो
उसके झक्कीपन से

फिर भी‌ अम्लान-पुष्प* वाली कहानी की तरह
विलुप्त भाषा के गीत रहते हों उसके साथ

इस तरह सेना के दायरे से बाहर
प्रेमिकाओं के मन में
हिलोरें मारती हो
एक खो गई भाषा
रूमानी अगड़म-बगड़म बनकर।

*अम्लान पुष्प मेरे बचपन में पढ़ी ‘राजस्थान पत्रिका’ में प्रकाशित एक चित्रकथा थी। इस कहानी में युवतियाँ पति के बाहर जाने पर एक फूल को साथ रखती हैं जो अम्लान रहकर इस बात का प्रमाण देता है कि उनका पति जीवित और उनके प्रति वफ़ादार है।
देवेश पथ सारिया की कविता 'सबसे ख़ुश दो लोग'

Recommended Book:

Previous articleतुम साथ देते तो
Next articleइस स्त्री से डरो
देवेश पथ सारिया
बतौर रचनाकार मैं मूल रूप से हिन्दी कवि हूं। कथेतर-गद्य लेखन और कविताओं के अनुवाद में भी कुछ रुचि रखता हूँ। साहित्यिक पत्रिकाओं में प्रकाशन: हंस, नया ज्ञानोदय, वागर्थ, कथादेश, कथाक्रम, परिकथा, पाखी, आजकल, अकार, बया, बनास जन, मधुमती, कादंबिनी, समयांतर, समावर्तन, उद्भावना, जनपथ, नया पथ, आधारशिला, दोआबा, बहुमत, परिंदे, ककसाड़, प्रगतिशील वसुधा, अक्षर पर्व, मंतव्य, मुक्तांचल, रेतपथ, कृति ओर, शुक्रवार साहित्यिक वार्षिकी, उम्मीद, कला समय, पुष्पगंधा आदि पत्रिकाओं में मेरी रचनाएँ प्रकाशित हुई हैं। समाचार पत्रों में प्रकाशन: राजस्थान पत्रिका, दैनिक भास्कर, दि सन्डे पोस्ट। वेब प्रकाशन: सदानीरा, जानकीपुल, अनुनाद, बिजूका, समकालीन जनमत, पोषम पा, हिन्दीनेस्ट, शब्दांकन, कारवां, मीमांसा, साहित्यिकी, अथाई, हिन्दीनामा, लिटरेचर पॉइंट। सम्प्रति: ताइवान में खगोल शास्त्र में पोस्ट डाक्टरल शोधार्थी। मूल रूप से राजस्थान के राजगढ़ (अलवर) से सम्बन्ध। ई-मेल: [email protected]