‘Wah Ladki’, a poem by Om Purohit ‘Kagad’

सामने के झोपड़े में
रहने वाली वह लड़की
अब सपने नहीं देखती।

वह जानती है कि सपने में भी
पुरुष की सत्ता आ टपकती है
और कभी भी
उसके अबला होने का
लाभ उठा सकती है।

वह यह भी जानती है
कि सपना हो या यथार्थ
पुरुष की माँग पूरे बिना
उसकी माँग
कभी भी भरी नहीं जा सकती।
इसीलिये अब वह
झोपड़े में निपट अकेली
यथार्थ को भोगती है
और सपने टालती है।

यह भी पढ़ें:

जोशना बैनर्जी आडवानी की कविता ‘एकतरफ़ा प्रेम में लड़की’
उपमा ‘ऋचा’ की कहानी ‘क़स्बाई लड़की’
सोफ़िया नाज़ की नज़्म ‘लड़की’

Recommended Book: