Tag: Kahlil Gibran

Kahlil Gibran

खलील जिब्रान – ‘नास्तिक’

खलील जिब्रान की किताब 'नास्तिक' से उद्धरण | Quotes from 'Nastik', a book by Kahlil Gibran चयन: पुनीत कुसुम   "मेरा कोई शत्रु नहीं है, पर भगवान,...
Kahlil Gibran

कवि की मौत ही उसका जीवन है

अनुवाद: बलराम अग्रवालरात के काले परों ने शहर को अपनी गिरफ़्त में ले लिया था। बर्फ़ की सफ़ेद चादर उसके ऊपर आ तनी थी।...
Kahlil Gibran

खलील जिब्रान

खलील जिब्रान के उद्धरण | Quotes in Hindi by Kahlil Gibran   "प्रेम दो प्रेमियों के बीच में एक पर्दा है।"   "दानशीलता यह नहीं है कि तुम...
Kahlil Gibran - Poet

आँसू और हँसी

'The Wanderer: Tears and Laughter' : : Kahlil Gibran अंग्रेज़ी से अनुवाद: गौरव अदीबशाम के वक़्त नील नदी के किनारे एक लकड़बग्घे की मुलाक़ात घड़ियाल...
Kahlil Gibran

लिबास

'The Wanderer: Garments' : : Kahlil Gibran अंग्रेज़ी से अनुवाद: गौरव अदीबएक रोज़ समन्दर के किनारे ख़ूबसूरती की मुलाक़ात बदसूरती से हुई। उन्होंने एक दूसरे...
Kahlil Gibran

साथ होने के लिए हमेशा पास खड़े होने की ज़रूरत नहीं होती!

'The Prophet: Marriage' : : Kahlil Gibran अंग्रेज़ी से अनुवाद: गौरव अदीबऔर तब अलमित्रा ने दोबारा पूछा, "शादी के बारे में आप क्या कहेंगे?"उन्होंने जवाब...
Kahlil Gibran

एस्केप

जब भी तुम किसी आदमी को जेल जाते हुए देखो, अपने दिल में सोचना- "शायद वह एक और अधिक सँकरी जेल से भाग रहा है!"और जब भी तुम...
Kahlil Gibran - Poet

सोने की बेल्ट

परिवार की चिंता और सुरक्षा वह शक्ति है जो इंसान को कुछ भी करने पर मज़बूर कर देती है.. चाहे वह साल भर की अथक मेहनत हो या वेग में बहती नदी को पार करना...
Kahlil Gibran

सोना-जागना

"मेरी जवानी को बरबाद करके तू अब अपने-आप को सँवारती, इठलाती घूमती है। काश! मैंने पैदा होते ही तुझे मार दिया होता।"
Kahlil Gibran

औरत और मर्द

अनुवाद: बलराम अग्रवालएक बार मैंने एक औरत का चेहरा देखा। उसमें मुझे उसकी समस्त अजन्मी सन्तानें दिखाई दीं।और एक औरत ने मेरे चेहरे को...
Kahlil Gibran

घुमक्कड़

वह मुझे चौराहे पर मिला। एक व्यक्ति जिसके पास केवल एक लबादा और एक छड़ी थी, और जिसके चेहरे पर दर्द का एक आवरण...
Kahlil Gibran

अन्धेर नगरी

अनुवाद - बलराम अग्रवालराजमहल में एक रात भोज दिया गया।एक आदमी वहाँ आया और राजा के आगे दण्डवत लेट गया। सब लोग उसे देखने...

STAY CONNECTED

42,471FansLike
20,941FollowersFollow
29,165FollowersFollow
2,040SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Chen Chien-wu

चेन च्येन वू की कविताएँ

ताइवान के नांताऊ शहर में सन् 1927 में जन्मे कवि चेन च्येन वू मंदारिन, जापानी और कोरियाई भाषाओं में पारंगत कवि हैं। अपने कई...
Ekaterina Grigorova

बुल्गारियाई कवयित्री एकैटरीना ग्रिगरोवा की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा सामान्यता मुझे बाल्टिक समुद्र का भूरा पानी याद है! 16 डिग्री तापमान की अनंत ऊर्जा का भीतरी अनुशासन!बदसूरत-सी एक चीख़ निकालती है पेट्रा और उड़ जाता है आकाश में बत्तखों...
Naomi Shihab Nye

नेओमी शिहैब नाय की कविता ‘जो नहीं बदलता, उसे पहचानने की कोशिश’

नेओमी शिहैब नाय (Naomi Shihab Nye) का जन्म सेंट लुइस, मिसौरी में हुआ था। उनके पिता एक फ़िलिस्तीनी शरणार्थी थे और उनकी माँ जर्मन...
Vinita Agrawal

विनीता अग्रवाल की कविताएँ

विनीता अग्रवाल बहुचर्चित कवियित्री और सम्पादक हैं। उसावा लिटरेरी रिव्यू के सम्पादक मण्डल की सदस्य विनीता अग्रवाल के चार काव्य संग्रह प्रकाशित हो चुके...
Gaurav Bharti

कविताएँ: अगस्त 2022

विस्मृति से पहले मेरी हथेली को कैनवास समझ जब बनाती हो तुम उस पर चिड़िया मुझे लगता है तुमने ख़ुद को उकेरा है अपने अनभ्यस्त हाथों से।चारदीवारी और एक...
Nicoleta Crăete

रोमानियाई कवयित्री निकोलेटा क्रेट की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा औंधा पड़ा सपना प्यार दरअसल फाँसी का पुराना तख़्ता है, जहाँ हम सोते हैं! और जहाँ से हमारी नींद, देखना चाह रही होती है चिड़ियों की ओर!मत...
Daisy Rockwell - Geetanjali Shree

डेज़ी रॉकवेल के इंटरव्यू के अंश

लेखक ने अपनी बात कहने के लिए अपनी भाषा रची है, इसलिए इसका अनुवाद करने के लिए आपको भी अपनी भाषा गढ़नी होगी। —डेज़ी...
Kalam Ka Sipahi - Premchand Jeevani - Amrit Rai

पुस्तक अंश: प्रेमचंद : कलम का सिपाही

भारत के महान साहित्यकार, हिन्दी लेखक और उर्दू उपन्यासकार प्रेमचंद किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। प्रेमचंद ने अपने जीवन काल में कई रचनाएँ...
Priya Sarukkai Chabria

प्रिया सारुकाय छाबड़िया की कविताएँ

प्रिया सारुकाय छाबड़िया एक पुरस्कृत कवयित्री, लेखिका और अनुवादक हैं। इनके चार कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं जिनमें नवीनतम 'सिंग ऑफ़ लाइफ़ रिवीज़निंग...
aadhe adhoore mohan rakesh

आधे-अधूरे : एक सम्पूर्ण नाटक

आधे-अधूरे: एक सम्पूर्ण नाटक समीक्षा: अनूप कुमार मोहन राकेश (1925-1972) ने तीन नाटकों की रचना की है— 'आषाढ़ का एक दिन' (1958), 'लहरों के राजहंस' (1963)...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)