Tag: भाषा

Rajesh Joshi

हमारी भाषा

यह कविता यहाँ सुनें: https://youtu.be/ejZxw4tNpIkभाषा में पुकारे जाने से पहले वह एक चिड़िया थी बस और चिड़िया भी उसे हमारी भाषा ने ही कहा भाषा ही ने दिया उस...
Virag Vinod

विराग की कविताएँ

प्रतीक्षा हमारे ख़ून में है जिन दिनों हम गर्भ में थे सरकारी अस्पताल की लाइन में लगी रहती माँ और डॉक्टर लंच के लिए उठ जाता, कहते...
Fairy Tale, Dreams, Sleep

खुलती रस्सियों के सपने

लम्बी फ़ुर्सत की तलाश में नया कहने, सुनने, गुनने की कैफ़ियत जाती रहती हैज़ुबान बंजर होती जाती है, साँस सँकरी वक़्त की अदृश्य रस्सियाँ पैरों को जकड़ती हुई धीरे-धीरे गर्दन तक...
Vishesh Chandra Naman

नयी भाषा

सड़कें, साइकिल और हमारे सजे हुए सपने किसी थकी हुई भाषा के शब्दों की तरह रुक गए हैं, चमत्कार की भाषा की चाह में हमने दूर से...
Gaurav Bharti

घोंसला, भाषा

घोंसला मुझे नहीं पता मेरे पास कितना वक़्त शेष है उम्र का कितना हिस्सा जी चुका कितना रह गया है बाक़ी मैं नहीं जानताआजकल बहुत कम सोता हूँ बहुत कुछ...
kunwar narayan

बात सीधी थी पर

बात सीधी थी पर एक बार भाषा के चक्कर में ज़रा टेढ़ी फँस गई।उसे पाने की कोशिश में भाषा को उलटा-पलटा तोड़ा-मरोड़ा घुमाया-फिराया कि बात या तो बने या फिर भाषा...
Hands, Touch

अवहेलना

सृष्टि की अनछुई देह पर पहला प्रेम स्पर्श 'मौन' का था जो भाषा से असहमत थाफिर भी आदम और हव्वा- जिन्हें शाब्दिक स्पर्श की कोई अनुभूति नहीं...
Usha Dashora

भाषा के कोई सरनेम नहीं होते

हमारी आठवीं की उस संस्कृत कक्षा में तैरा करते थे शब्द रूप और धातु रूपखिड़कियों पर लटके रहते थे हलंत और विसर्ग के कड़क नियम जिन्हें उछलकर...
Kunwar Narayan

प्यार की भाषाएँ

'Pyar Ki Bhashaein', a poem by Kunwar Narayanमैंने कई भाषाओं में प्यार किया है पहला प्यार ममत्व की तुतलाती मातृभाषा में, कुछ ही वर्ष रही वह जीवन मेंदूसरा...
Harshita Panchariya

प्रेम की भाषा

आँखों की अभिव्यक्ति संसार की श्रेष्ठतम अभिव्यक्ति है, आलिंगन संसार की सर्वोत्तम चिकित्सा पद्धति है, स्पर्श से बेहतरीन कोई अनुवाद नहीं, चुम्बन से उच्चतर कोई अनुभूति नहीं।प्रेम की अभिव्यक्ति दो आत्माओं के...

अबूझ भाषा का प्रेम

'Aboojh Bhasha Ka Prem', poems by Preeti Karn 1 तुम्हें अब तक सीख लेनी चाहिए कविता की अबूझ भाषा! ऐसा कुछ भी अज्ञात नहीं जो इसकी परिधि के परे...

भाषा का न्यूटन

'Bhasha Ka Newton', a poem by Prem Prakashभाषा के न्यूटन ने जब लिखा होगा संधि-विच्छेद का नियम तब पैदा नहीं हुए होंगे चाणक्य न ही होती होगी राज्यों...

STAY CONNECTED

38,332FansLike
19,561FollowersFollow
27,837FollowersFollow
1,660SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Nurit Zarchi

नूइत ज़ारकी की कविता ‘विचित्रता’

नूइत ज़ारकी इज़राइली कवयित्री हैं जो विभिन्न साहित्य-सम्बन्धी पुरस्कारों से सम्मानित हैं। प्रस्तुत कविता उनकी हीब्रू कविता के तैल गोल्डफ़ाइन द्वारा किए गए अंग्रेज़ी...
Sunset

कितने प्रस्थान

सूरज अधूरी आत्महत्या में उड़ेल आया दिन-भर का चढ़ना उतरते हुए दृश्य को सूर्यास्त कह देना कितना तर्कसंगत है यह संदेहयुक्त है अस्त होने की परिभाषा में कितना अस्त हो जाना दोबारा...
Naresh Mehta

कवच

मैं जानता हूँ तुम्हारा यह डर जो कि स्वाभाविक ही है, कि अगर तुम घर के बाहर पैर निकालोगे तो कहीं वैराट्य का सामना न हो जाए, तुम्हें...
Vishesh Chandra Naman

मैं

मैं एक तीर था जिसे सबने अपने तरकश में शामिल किया किसी ने चलाया नहींमैं एक फूल था टूटने को बेताब सबने मुझे देखा, मेरे रंगों की तारीफ़ की और मैं...
Gaurav Bharti

कविताएँ: नवम्बर 2021

यात्री भ्रम कितना ख़ूबसूरत हो सकता है? इसका एक ही जवाब है मेरे पास कि तुम्हारे होने के भ्रम ने मुझे ज़िन्दा रखातुम्हारे होने के भ्रम में मैंने शहर...
God, Abstract Human

कौन ईश्वर

नहीं है तुम्हारी देह में यह रुधिर जिसके वर्ण में अब ढल रही है दिवा और अँधेरा सालता हैरोज़ थोड़ी मर रही आबादियों में रोज़ थोड़ी बढ़ रही...
Haruki Murakami

हारुकी मुराकामी की कहानी ‘सातवाँ आदमी’

कहानी: 'सातवाँ आदमी' लेखक: हारुकी मुराकामी जापानी से अनुवाद: क्रिस्टोफ़र एलिशन हिन्दी अनुवाद: श्रीविलास सिंह"वह मेरी उम्र के दसवें वर्ष के दौरान सितम्बर का एक अपराह्न था...
Aashika Shivangi Singh

आशिका शिवांगी सिंह की कविताएँ

माँ-पिता प्रेमी-प्रेमिका नहीं बन सके मेरी माँ जब भी कहती है— "प्रेम विवाह ज़्यादा दिन नहीं चलते, टूट जाते हैं" तब अकस्मात ही मुझे याद आने लगते...
Lee Min Yung

कविता सरहदों के पार, हक़ीक़त के बीच दरार और कुछ बेतरतीब विचार

वरिष्ठ ताइवानी कवि एवं आलोचक ली मिन-युंग की कविताओं के हिन्दी अनुवाद का संकलन 'हक़ीक़त के बीच दरार' जुलाई में पाठकों तक पहुँचा। साहित्यिक...
Thaharti Sanson Ke Sirhane Se - Ananya Mukherjee

दुःख, दर्द और उम्मीद का मौसम (अनन्य मुखर्जी की कैंसर डायरी)

'ठहरती साँसों के सिरहाने से' अनन्या मुखर्जी की डायरी है जो उन्होंने 18 नवम्बर, 2018 को स्तन कैंसर से लड़ाई हार जाने से पहले...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)