Tag: World Literature

Hand, Sun, Tree, Far, Away, Seek

पीटर हैंडकी की कविता ‘दूरियाँ’

Excerpt from a poem 'To Duration' by Peter Handke अनुवाद: उपमा 'ऋचा'न जाने कब से मैं दूरियों के बारे में लिखना चाहता था। कोई निबन्ध नहीं कोई नाटक नहीं कोई...
Leopold Staff

लियोपोल्ड स्टाफ की कविताएँ

Poems by Leopold Staff, a Polish poet अनुवाद: आदर्श भूषण क्या तुम? तुम मुझे बुलबुल, गुलाबों और चाँद की प्रशंसा करने से मना करते हो, ये शायद लगते हों...
Maya Angelou

मुझे मत दिखाना अपनी दया

'On Aging', a poem by Maya Angelou, from 'And Still I Rise' अनुवाद: अनुराग तिवारीजब तुम मुझे ऐसे शांत बैठे देखोगे जैसे अलमारी में छूटा कोई...
Woman Standing near River, making Love sign

मैं

'I Am A Fountain, You Are my Water' - Zeynep Hatun अनुवाद: उपमा 'ऋचा'मैं झरना हूँ, तुम पानी हो मेरा, मैं बहता हूँ तुम से तुम...
The Country of the Blind, Face

अंधेर नगरी

एक पर्वतारोही एक दुर्घटना के बाद एक ऐसे नगरी में पहुँच जाता है जहाँ सभी लोग अंधे हैं और आँख और दृश्य जैसी कोई चीज़ होती है, नहीं जानते। वहाँ रहने के बाद वह निश्चय करता है कि वह उन लोगों को 'दृष्टि' से अवगत कराएगा। लेकिन क्या वह ऐसा कर पाता है? पढ़िए एच. जी. वेल्स की इस उम्दा कहानी में!अनुवाद उपमा 'ऋचा' द्वारा!
elvis died at the florida barber college

एल्विस फ़्लोरिडा बार्बर कॉलेज के पास मरा था

"दस बरस की उम्र में, मैं यह समझ नहीं पाता था कि एल्विस प्रेस्ली में ऐसा क्या था, जो हम बाक़ी लड़कों में नहीं! मेरा मतलब, उसके पास भी हम सबकी तरह एक सिर, दो हाथ और दो पैर थे। फिर उसमें ऐसा क्या छिपा था कि अनाथालय की तमाम हमउम्र लड़कियाँ उसकी उंगलियों पर नाचने को तैयार रहती थीं!"
Abdulla Pashew

ऐब-बीनों से

अब्दुल्ला पाशा मौजूदा दौर के विख्यात कुर्दी कवियों में से एक हैं। इनका जन्म 1946 में दक्षिणी कुर्दिस्तान में हुआ था। इन्होंने 'सोवियत संघ'...
Abdulla Pashew

इक़रारनामा

'The Contract' - Abdulla Pashew अँग्रेज़ी से अनुवाद: कुशाग्र अद्वैतअब्दुल्ला पाशा मौजूदा दौर के विख्यात कुर्दी कवियों में से एक हैं। इनका जन्म 1946 में...
Erich Fried

एरिश फ़्रीड की कविता ‘यह जो है’

Poem: 'What It Is' - Erich Fried अनुवाद: पुनीत कुसुमयह बकवास है तर्क कहता है जो है, सो है कहता है प्रेमयह आपदा है आकलन कहता है यह दर्द के सिवा...
Ricardo Aleixo

मैं तुम्हें तुम्हारी गन्ध से जानता हूँ

रिकार्डो अलैक्जो का जन्म 1960 में मिनास गेराइस के बेलो होरीज़ोंटे में हुआ था। रिकार्डो अपनी समाज और दृश्यपरक कविताओं के लिए विख्यात हैं...
Tadeusz Rozewicz

तादेऊष रूज़ेविच की कविता ‘गवाह’

'Witness', a poem by Tadeusz Różewicz अनुवाद: पुनीत कुसुममेरे दोस्त, तुम जानते हो मैं अन्दर हूँ लेकिन यूँ अचानक मत घुस आओ मेरे कमरे मेंसम्भव है...
Maya Angelou

माया एंजेलो की कविता ‘सीख’

'The Lesson', a poem by Maya Angelou अनुवाद: पुनीत कुसुममैं बार-बार मरती हूँ, नसें सिकुड़ती हैं, खुलती हैं जैसे सोते हुए बच्चों की छोटी-छोटी मुट्ठियाँ, जीर्ण क़ब्रों, सड़े-गले हाड़-माँस,...

STAY CONNECTED

38,332FansLike
19,561FollowersFollow
27,839FollowersFollow
1,660SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Nurit Zarchi

नूइत ज़ारकी की कविता ‘विचित्रता’

नूइत ज़ारकी इज़राइली कवयित्री हैं जो विभिन्न साहित्य-सम्बन्धी पुरस्कारों से सम्मानित हैं। प्रस्तुत कविता उनकी हीब्रू कविता के तैल गोल्डफ़ाइन द्वारा किए गए अंग्रेज़ी...
Sunset

कितने प्रस्थान

सूरज अधूरी आत्महत्या में उड़ेल आया दिन-भर का चढ़ना उतरते हुए दृश्य को सूर्यास्त कह देना कितना तर्कसंगत है यह संदेहयुक्त है अस्त होने की परिभाषा में कितना अस्त हो जाना दोबारा...
Naresh Mehta

कवच

मैं जानता हूँ तुम्हारा यह डर जो कि स्वाभाविक ही है, कि अगर तुम घर के बाहर पैर निकालोगे तो कहीं वैराट्य का सामना न हो जाए, तुम्हें...
Vishesh Chandra Naman

मैं

मैं एक तीर था जिसे सबने अपने तरकश में शामिल किया किसी ने चलाया नहींमैं एक फूल था टूटने को बेताब सबने मुझे देखा, मेरे रंगों की तारीफ़ की और मैं...
Gaurav Bharti

कविताएँ: नवम्बर 2021

यात्री भ्रम कितना ख़ूबसूरत हो सकता है? इसका एक ही जवाब है मेरे पास कि तुम्हारे होने के भ्रम ने मुझे ज़िन्दा रखातुम्हारे होने के भ्रम में मैंने शहर...
God, Abstract Human

कौन ईश्वर

नहीं है तुम्हारी देह में यह रुधिर जिसके वर्ण में अब ढल रही है दिवा और अँधेरा सालता हैरोज़ थोड़ी मर रही आबादियों में रोज़ थोड़ी बढ़ रही...
Haruki Murakami

हारुकी मुराकामी की कहानी ‘सातवाँ आदमी’

कहानी: 'सातवाँ आदमी' लेखक: हारुकी मुराकामी जापानी से अनुवाद: क्रिस्टोफ़र एलिशन हिन्दी अनुवाद: श्रीविलास सिंह"वह मेरी उम्र के दसवें वर्ष के दौरान सितम्बर का एक अपराह्न था...
Aashika Shivangi Singh

आशिका शिवांगी सिंह की कविताएँ

माँ-पिता प्रेमी-प्रेमिका नहीं बन सके मेरी माँ जब भी कहती है— "प्रेम विवाह ज़्यादा दिन नहीं चलते, टूट जाते हैं" तब अकस्मात ही मुझे याद आने लगते...
Lee Min Yung

कविता सरहदों के पार, हक़ीक़त के बीच दरार और कुछ बेतरतीब विचार

वरिष्ठ ताइवानी कवि एवं आलोचक ली मिन-युंग की कविताओं के हिन्दी अनुवाद का संकलन 'हक़ीक़त के बीच दरार' जुलाई में पाठकों तक पहुँचा। साहित्यिक...
Thaharti Sanson Ke Sirhane Se - Ananya Mukherjee

दुःख, दर्द और उम्मीद का मौसम (अनन्य मुखर्जी की कैंसर डायरी)

'ठहरती साँसों के सिरहाने से' अनन्या मुखर्जी की डायरी है जो उन्होंने 18 नवम्बर, 2018 को स्तन कैंसर से लड़ाई हार जाने से पहले...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)