Tag: Hindi poem

Shamser Bahadur Singh

बात बोलेगी

बात बोलेगी, हम नहीं। भेद खोलेगी बात ही।सत्य का मुख झूठ की आँखें क्या देखें!सत्य का रुख़ समय का रुख़ हैः अभय जनता को सत्य ही सुख है सत्य ही सुख।दैन्य दानव; काल भीषण;...
Shail Chaturvedi

शायरी का इंक़लाब

एक दिन अकस्मात एक पुराने मित्र से हो गई मुलाकात कहने लगे- "जो लोग कविता को कैश कर रहे हैं वे ऐश कर रहे हैं लिखने वाले मौन हैं श्रोता तो...
Alok Dhanwa

अचानक तुम आ जाओ

इतनी रेलें चलती हैं भारत में कभी कहीं से भी आ सकती हो मेरे पासकुछ दिन रहना इस घर में जो उतना ही तुम्हारा भी है तुम्हें देखने की प्यास...
Smoke, Industry, Pollution

धुआँ

कारखानों के धुएँ का रंग, काला होता है क्योंकि, उसमें लगा है खून, किसी मरी हुई तितली का, फूल का, शजर का धुआँ जो फैला हुआ है ज़मीन से...
Sarveshwar Dayal Saxena

पोस्टमार्टम की रिपोर्ट

यह कविता हिन्दी की छोटी लेकिन सबसे सशक्त कविताओं में से एक है! समाज में गरीब होना तक कितना बड़ा अपराध बन जाता है, सर्वेश्वरदयाल सक्सेना ने केवल चार पंक्तियों में बता दिया है.. पढ़िए! :)
Kunwar Bechain

पिन बहुत सारे

ज़िन्दगी का अर्थ मरना हो गया है और जीने के लिये हैं दिन बहुत सारे।इस समय की मेज़ पर रक्खी हुई ज़िन्दगी है 'पिन-कुशन' जैसी दोस्ती का अर्थ चुभना हो गया है और...
Deepti Naval

अजनबी

'Ajnabi', a poem by Deepti Navalअजनबी रास्तों पर पैदल चलें कुछ न कहेंअपनी-अपनी तन्हाइयाँ लिए सवालों के दायरों से निकलकर रिवाजों की सरहदों के परे हम यूँ ही साथ...
Viren Dangwal

प्रेम कविता

प्यारी, बड़े मीठे लगते हैं मुझे तेरे बोल! अटपटे और ऊल-जुलूल बेसर-पैर कहाँ से कहाँ तेरे बोल!कभी पहुँच जाती है अपने बचपन में जामुन की रपटन-भरी डालों...
Kushagra Adwaita

तीन कविताएँ

मेरे अंदर एक पागलखाना है मेरे अंदर एक पागलखाना है तरह-तरह के पागल हैंएक पागल हरदम बोलता ही रहता है, दूसरा पागल ख़ामोशी ओढ़े है बस नींद में...
Kunwar Narayan

सूर्योदय की प्रतीक्षा में

वे सूर्योदय की प्रतीक्षा में पश्चिम की ओर मुॅंह करके खड़े थेदूसरे दिन जब सूर्योदय हुआ तब भी वे पश्चिम की ओर मुॅंह करके खड़े थेजबकि सही दिशा-संकेत...

ग्लोबल वॉर्मिंग

मेरे दिल की सतह पर टार जम गया हैसाँस खींचती हूँ तो खिंची चली आती है कई टूटे तारों की राख जाने कितने अरमान निगल गयी हूँ साँस...
Badrinarayan

प्रेमपत्र

'Prempatra', a poem by Badrinarayanप्रेत आएगा किताब से निकाल ले जायेगा प्रेमपत्र गिद्ध उसे पहाड़ पर नोच-नोच खायेगाचोर आयेगा तो प्रेमपत्र ही चुरायेगा जुआरी प्रेमपत्र ही दाँव...

STAY CONNECTED

38,332FansLike
20,438FollowersFollow
28,393FollowersFollow
1,720SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Thithurte Lamp Post - Adnan Kafeel Darwesh

‘ठिठुरते लैम्प पोस्ट’ से कविताएँ

अदनान कफ़ील 'दरवेश' का जन्म ग्राम गड़वार, ज़िला बलिया, उत्तर प्रदेश में हुआ। दिल्ली विश्वविद्यालय से कम्प्यूटर साइंस में ग्रेजुएशन करने के बाद उन्होंने...
Vijendra Anil

कहाँ हैं तुम्हारी वे फ़ाइलें

मैं जानता था—तुम फिर यही कहोगे यही कहोगे कि राजस्थान और बिहार में सूखा पड़ा है ब्रह्मपुत्र में बाढ़ आयी है, उड़ीसा तूफ़ान की चपेट में...
Dunya Mikhail

दुन्या मिखाइल की कविता ‘चित्रकार बच्चा’

इराक़ी-अमेरिकी कवयित्री दुन्या मिखाइल (Dunya Mikhail) का जन्म बग़दाद में हुआ था और उन्होंने बग़दाद विश्वविधालय से बी.ए. की डिग्री प्राप्त की। सद्दाम हुसैन...
Muktibodh - T S Eliot

टी. एस. ईलियट के प्रति

पढ़ रहा था कल तुम्हारे काव्य कोऔर मेरे बिस्तरे के पास नीरव टिमटिमाते दीप के नीचे अँधेरे में घिरे भोले अँधेरे में घिरे सारे सुझाव, गहनतम संकेत! जाने...
Jeffrey McDaniel

जेफ़री मैकडैनियल की कविता ‘चुपचाप संसार’

जेफ़री मैकडैनियल (Jeffrey McDaniel) के पाँच कविता संग्रह आ चुके हैं, जिनमें से सबसे ताज़ा है 'चैपल ऑफ़ इनडवर्टेंट जॉय' (यूनिवर्सिटी ऑफ़ पिट्सबर्ग प्रेस,...
Antas Ki Khurchan - Yatish Kumar

‘अन्तस की खुरचन’ से कविताएँ

यतीश कुमार की कविताओं को मैंने पढ़ा। अच्छी रचना से मुझे सार्वजनिकता मिलती है। मैं कुछ और सार्वजनिक हुआ, कुछ और बाहर हुआ, कुछ...
Shivangi

उसके शब्दकोश से मैं ग़ायब हूँ

मेरी भाषा मेरी माँ की तरह ही मुझसे अनजान है वह मेरा नाम नहीं जानती उसके शब्दकोश से मैं ग़ायब हूँ मेरे नाम के अभाव से, परेशान वह बिलकुल माँ...
Savitribai Phule, Jyotiba Phule

सावित्रीबाई फुले का ज्योतिबा फुले को पत्र

Image Credit: Douluri Narayanaप्रिय सत्यरूप जोतीबा जी को सावित्री का प्रणाम,आपको पत्र लिखने की वजह यह है कि मुझे कई दिनों से बुख़ार हो रहा...
Khoyi Cheezon Ka Shok - Savita Singh

‘खोई चीज़ों का शोक’ से कविताएँ

सविता सिंह का नया कविता संग्रह 'खोई चीज़ों का शोक' सघन भावनात्मक आवेश से युक्त कविताओं की एक शृंखला है जो अत्यन्त निजी होते...
Rahul Tomar

कविताएँ: दिसम्बर 2021

आपत्तियाँ ट्रेन के जनरल डिब्बे में चार के लिए तय जगह पर छह बैठ जाते थे तो मुझे कोई आपत्ति नहीं होती थीस्लीपर में रात के समय...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)