Tag: IGNOU MA Hindi Study Material (MHD)

Ignou MA Hindi Study Material, Ignou MA Hindi, Ignou Hindi, Ignou Upanyaas evam Kahani. Read here the literature pieces from the syllabus of Ignou MA Hindi.

क्यों मुझे प्रिय हों न बन्धन

क्यों मुझे प्रिय हों न बन्धन! बन गया तम-सिन्धु का, आलोक सतरंगी पुलिन सा, रजभरे जग-बाल से है, अंक विद्युत् का मलिन-सा, स्मृति-पटल पर कर रहा अब, वह स्वयं...
Raghuvir Sahay

कविता बन जाती है

हम लोग रोज़ खाते और जागते और सोते हैं कोई कविता नहीं मिलती है जैसे ही हमारा रिश्ता किसी से भी साफ़ होने लगता है कविता बन...
Shrikant Verma

जलसाघर

यही सोचते हुए गुज़र रहा हूँ मैं कि गुज़र गयी बग़ल से गोली दनाक से। राहजनी हो या क्रान्ति? जो भी हो, मुझको गुज़रना ही रहा है शेष। देश नक़्शे में देखता...

रोटी और संसद

एक आदमी रोटी बेलता है एक आदमी रोटी खाता है एक तीसरा आदमी भी है जो न रोटी बेलता है, न रोटी खाता है वह सिर्फ़ रोटी से खेलता...
People sitting and having food in village

लटकी हुई शर्त

"दुसाध को लड़की की शादी करनी है तो दुसाध ही खोजेगा। चमार को लड़की की शादी करनी है तो चमार ही खोजेगा। फिर, यह 'हरिजन-हरिजन' करने से इन बारीकियों का पता कैसे चलेगा?"
Shamser Bahadur Singh

उषा

कविता संग्रह: 'टूटी हुई बिखरी हुई'प्रात नभ था बहुत नीला शंख जैसेभोर का नभराख से लीपा हुआ चौका (अभी गीला पड़ा है)बहुत काली सिल ज़रा...
Raghuvir Sahay

आज का पाठ है

आज का पाठ है—मृत्यु के साधारण तथ्य अनेक हैं; मुख्य लिखोवह सब को एक-सी नहीं आती न सब मृत्यु के बाद एक हो जाते हैं वैसे ही...
Mohandas Naimishrai

आवाज़ें

"ब्राह्मण का लड़का चाहे वह अभी ढंग से नाक साफ करना भी न सीख पाया हो, लेकिन साठ साल के बूढ़े तक उसे 'पंडितजी पालागन' कहकर आदर प्रकट करते हैं। इतवारी की उम्र पचास से ऊपर ही होगी और सामने खड़े कारिन्दे की अट्ठाइस के करीब। उम्र में आधे का फर्क, किन्तु जातिगत असमानता भला शिष्टाचार कहाँ निभाने देती है।"
Om Prakash Valmiki

पच्चीस चौका डेढ़ सौ

"सुदीप जब भी किसी को गिड़गिड़ाते देखता है तो उसे अपने पिताजी की छवि याद आने लगती है!"

विरह का जलजात जीवन

'Virah Ka Jaljat Jivan', a poem by Mahadevi Verma विरह का जलजात जीवन, विरह का जलजात! वेदना में जन्म, करुणा में मिला आवास अश्रु चुनता दिवस इसका,...
Raghuvir Sahay

अभी जीना है

मुझे अभी जीना है कविता के लिए नहीं कुछ करने के लिए कि मेरी संतान मौत कुत्ते की न मरेमैं आत्महत्या के पक्ष में नहीं...
Raghuvir Sahay

सड़क पर रपट

देखो सड़क पार करता है पतला दुबला बोदा आदमी आती हुई टरक का इसको डर नहीं या कि जल्दी चलने का इसमें दम नहीं रहा आँख उठा...

STAY CONNECTED

38,332FansLike
19,561FollowersFollow
27,545FollowersFollow
1,630SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Man lying on footpath, Homeless

तीन चित्र : स्वप्न, इनकार और फ़ुटपाथ पर लेटी दुनिया

1 हम मृत्यु-शैय्या पर लेटे-लेटे स्वप्न में ख़ुद को दौड़ता हुआ देख रहे हैंऔर हमें लगता है हम जी रहे हैं हम अपनी लकड़ियों में आग के...
Fair, Horse Ride, Toy

मेला

1 हर बार उस बड़ी चरखी पर जाता हूँ जो पेट में छुपी हुई मुस्कान चेहरे तक लाती है कई लोग साल-भर में इतना नहीं हँसते जितना खिलखिला लेते हैं...
Man holding train handle

आधुनिकता

मैं इक्कीसवीं सदी की आधुनिक सभ्यता का आदमी हूँ जो बर्बरता और जंगल पीछे छोड़ आया हैमैं सभ्य समाज में बेचता हूँ अपना सस्ता श्रम और दो वक़्त की...
Justyna Bargielska

यूस्टीना बारगिल्स्का की कविताएँ

1977 में जन्मीं, पोलिश कवयित्री व उपन्यासकार यूस्टीना बारगिल्स्का (Justyna Bargielska) के अब तक सात कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं और उन्हें दो...
Saadat Hasan Manto

ख़ुशिया

ख़ुशिया सोच रहा था।बनवारी से काले तम्बाकूवाला पान लेकर वह उसकी दुकान के साथ लगे उस संगीन चबूतरे पर बैठा था जो दिन के...
Naresh Mehta

घर की ओर

वह— जिसकी पीठ हमारी ओर है अपने घर की ओर मुँह किये जा रहा है जाने दो उसे अपने घर।हमारी ओर उसकी पीठ— ठीक ही तो है मुँह यदि होता तो...
Upma Richa

या देवी

1सृष्टि की अतल आँखों में फिर उतरा है शक्ति का अनंत राग धूम्र गंध के आवक स्वप्न रचती फिर लौट आयी है देवी रंग और ध्वनि का निरंजन...
Chen Kun Lun

चेन कुन लुन की कविताएँ

चेन कुन लुन का जन्म दक्षिणी ताइवान के काओशोंग शहर में सन 1952 में हुआ। वह एक सुधी सम्पादक रहे हैं। चेन लिटरेरी ताइवान...
Bharat Ke Pradhanmantri - Rasheed Kidwai

किताब अंश: भारत के प्रधानमंत्री

सुपरिचित पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक रशीद किदवई की किताब 'भारत के प्रधानमंत्री : देश, दशा, दिशा' भारत के पहले प्रधानमंत्री से लेकर वर्तमान प्रधानमंत्री...
Muktibodh - Premchand

मेरी माँ ने मुझे प्रेमचन्द का भक्त बनाया

एक छाया-चित्र है। प्रेमचन्द और प्रसाद दोनों खड़े हैं। प्रसाद गम्भीर सस्मित। प्रेमचन्द के होंठों पर अस्फुट हास्य। विभिन्न विचित्र प्रकृति के दो धुरन्धर...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)