Tag: Grief

Nitesh Vyas

कविताएँ – मई 2020

चार चौक सोलह उन्होंने न जाने कितनी योनियाँ पार करके पायी थी दुर्लभ मनुष्य देह पर उन्हें क्या पता था कि एक योनि से दूसरी योनि में पहुँचने के कालान्तर से...
Kamleshwar

चप्पल

कहानी बहुत छोटी-सी है। मुझे ऑल इण्डिया मेडिकल इंस्टीटयूट की सातवीं मंज़िल पर जाना था। आई०सी०यू० में गाड़ी पार्क करके चला तो मन बहुत...
Trilochan

हम दोनों हैं दुःखी

हम दोनो हैं दुःखी। पास ही नीरव बैठें, बोलें नहीं, न छुएँ। समय चुपचाप बिताएँ, अपने-अपने मन में भटक-भटककर पैठें उस दुःख के सागर में, जिसके तीर...
Evil, Bad, Hands

दुःख का निरस्तीकरण

वो दुःखी था क्योंकि उसने दुःख का निरस्तीकरण अभी तक देखा नहीं थावो दुःख जो ग़रीब माँ के पेट से जन्म लेता है, हर बार जिसके...
Eye, Wall Art, Grief, Sadness

आश्रय

'Ashraya', Hindi Kavita by Rashmi Saxenaनमी खोखला कर देती है भीतर तक, दीवार की हो काठ की हो अथवा हो आत्मा कीमन की दीवार पर दुःख द्वारा लगायी सेंध से रिसता...
Leaf painting on Woman's Back, Sad, Depression, Hopeless

अवसाद

अवसाद के लिए दुनिया में कितनी जगह थी पर उसने चुनी मेरे भीतर की रिक्ततामेरे भीतर के दृश्य को देखने वाला कोई नहीं था आख़िर नीले आसमान...

दुःख

'Dukh', a poem by Amar Dalpuraनदियों का अपना दुःख है औरतों का अपना, वे कल-कल बहती हैं कल-कल में सूखती हैंउसे कल का संगीत और कल का समय अन्तःप्रवाही...
Manjula Bist

‘पीड़ा ही याद रही’ – दो कविताएँ

Poems: Manjula Bist 1 पीड़ा ही याद रही...जिनमें भी सौन्दर्य था वे नश्वर सिद्ध थे पीड़ाओं में कभी सौन्दर्यबोध न था सो वे अमर हैं!इसीलिये ही तो सारी तितलियों के...
Prabhat Milind

क़िस्से से बाहर होने का दुःख

'Qisse Se Bahar Hone Ka Dukh', Hindi Kavita by Prabhat Milindजो कभी व्यक्त नहीं हो पाया दुःख से बड़ा दुःख, यही दुःख थाअब तलक दिखने...
Rituraj

माँ का दुःख

कितना प्रामाणिक था उसका दुःख लड़की को दान में देते वक्त जैसे वही उसकी अन्तिम पूँजी होलड़की अभी सयानी नहीं थी अभी इतनी भोली सरल थी कि उसे सुख...
Harshita Panchariya

दुःख के दुःख की पीड़ा

'Dukh Ke Dukh Ki Peeda', poetry by Harshita Panchariyaसुख की देह जितनी सूक्ष्म है उतना ही दुःख देह पर देह लिए औंधा लटका रहता है जैसे ही एक...
Sadness, Grief, Painting, Woman

दुःख के दिन की कविता

'Dukh Ke Din Ki Kavita', poems by Santwana Shrikantमारे जाते हैं सपने बची रह जाती है परम्परा। वध होता है जिजीविषा का ढोती रहती हैं सभ्यताएँ यह दुःख। सदियों तक सलीब ढोता...

STAY CONNECTED

38,332FansLike
19,561FollowersFollow
27,839FollowersFollow
1,660SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Nurit Zarchi

नूइत ज़ारकी की कविता ‘विचित्रता’

नूइत ज़ारकी इज़राइली कवयित्री हैं जो विभिन्न साहित्य-सम्बन्धी पुरस्कारों से सम्मानित हैं। प्रस्तुत कविता उनकी हीब्रू कविता के तैल गोल्डफ़ाइन द्वारा किए गए अंग्रेज़ी...
Sunset

कितने प्रस्थान

सूरज अधूरी आत्महत्या में उड़ेल आया दिन-भर का चढ़ना उतरते हुए दृश्य को सूर्यास्त कह देना कितना तर्कसंगत है यह संदेहयुक्त है अस्त होने की परिभाषा में कितना अस्त हो जाना दोबारा...
Naresh Mehta

कवच

मैं जानता हूँ तुम्हारा यह डर जो कि स्वाभाविक ही है, कि अगर तुम घर के बाहर पैर निकालोगे तो कहीं वैराट्य का सामना न हो जाए, तुम्हें...
Vishesh Chandra Naman

मैं

मैं एक तीर था जिसे सबने अपने तरकश में शामिल किया किसी ने चलाया नहींमैं एक फूल था टूटने को बेताब सबने मुझे देखा, मेरे रंगों की तारीफ़ की और मैं...
Gaurav Bharti

कविताएँ: नवम्बर 2021

यात्री भ्रम कितना ख़ूबसूरत हो सकता है? इसका एक ही जवाब है मेरे पास कि तुम्हारे होने के भ्रम ने मुझे ज़िन्दा रखातुम्हारे होने के भ्रम में मैंने शहर...
God, Abstract Human

कौन ईश्वर

नहीं है तुम्हारी देह में यह रुधिर जिसके वर्ण में अब ढल रही है दिवा और अँधेरा सालता हैरोज़ थोड़ी मर रही आबादियों में रोज़ थोड़ी बढ़ रही...
Haruki Murakami

हारुकी मुराकामी की कहानी ‘सातवाँ आदमी’

कहानी: 'सातवाँ आदमी' लेखक: हारुकी मुराकामी जापानी से अनुवाद: क्रिस्टोफ़र एलिशन हिन्दी अनुवाद: श्रीविलास सिंह"वह मेरी उम्र के दसवें वर्ष के दौरान सितम्बर का एक अपराह्न था...
Aashika Shivangi Singh

आशिका शिवांगी सिंह की कविताएँ

माँ-पिता प्रेमी-प्रेमिका नहीं बन सके मेरी माँ जब भी कहती है— "प्रेम विवाह ज़्यादा दिन नहीं चलते, टूट जाते हैं" तब अकस्मात ही मुझे याद आने लगते...
Lee Min Yung

कविता सरहदों के पार, हक़ीक़त के बीच दरार और कुछ बेतरतीब विचार

वरिष्ठ ताइवानी कवि एवं आलोचक ली मिन-युंग की कविताओं के हिन्दी अनुवाद का संकलन 'हक़ीक़त के बीच दरार' जुलाई में पाठकों तक पहुँचा। साहित्यिक...
Thaharti Sanson Ke Sirhane Se - Ananya Mukherjee

दुःख, दर्द और उम्मीद का मौसम (अनन्य मुखर्जी की कैंसर डायरी)

'ठहरती साँसों के सिरहाने से' अनन्या मुखर्जी की डायरी है जो उन्होंने 18 नवम्बर, 2018 को स्तन कैंसर से लड़ाई हार जाने से पहले...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)